न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#JadhavpurUniversity की घटना पर ममता ने कहा,  #Democracy में विरोध प्रदर्शन महत्वपूर्ण और जरूरी

सीएम ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर(NRC) के मामले में डर पैदा किया जा रहा है. इसके लिए भाजपा की कड़ी आलोचना करती हूं.

10

Kolkata : सीएम ममता बनर्जी ने कोलकाता में सोमवार को व्यापार संघों की बैठक में कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र है, लेकिन देश के कई अन्य हिस्सों में यह खतरे में है. ममता ने कहा कि लोकतंत्र में विरोध प्रदर्शन महत्वपूर्ण और जरूरी है. जिस दिन विरोध प्रदर्शन अपना मूल्य खो देंगे उस दिन भारत, भारत होना बंद हो जायेगा.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर देश में लोकतांत्रिक मूल्यों को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए जाधवपुर यूनिवर्सिटी में हाल में हुए हंगामे का जिक्र किया. इसी क्रम में ममता बनर्जी ने कहा, लोकतंत्र को जिंदा रखने के लिए विरोध प्रदर्शन जरूरी हैं.

इसे भी पढ़ेंः#NationalGameScam पूर्व मंत्री बंधु तिर्की को झटका, ACB कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

भाजपा हर जगह सत्ता हासिल करना चाहती है

तृणमूल सुप्रीमो व पश्चिम बंगाल की सीएम ने कहा, हमने देखा है कि जाधवपुर यूनिवर्सिटी में क्या हुआ था. आरोप लगाया कि भाजपा हर जगह सत्ता हासिल करना चाहती है. भाजपा रोजगार छीनने या भारत की अर्थव्यवस्था के नीचे चले जाने की कोई बात नहीं कर रही है. वह अपने राजनीतिक हितों को साधना चाहती है.

जान लें कि 18 सितंबर को जाधवपुर यूनिवर्सिटी पहुंचे केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा था. एबीवीपी के कार्यक्रम में शामिल होने यूनिवर्सिटी पहुंचे बाबुल सुप्रियो के खिलाफ वापस जाओ के नारे भी लगाये गये. उनके साथ बदसलूकी और धक्का मुक्की भी हुई, जिसके बाद बाबुल सुप्रियो धरने पर बैठ गये . भाजपा इस मुद्दे को बंगाल में हो रही हिंसा के तौर पर उठा रही है.

इसे भी पढ़ेंः#HowdyModi : पीएम मोदी के अबकी बार ट्रंप सरकार…नारे पर कांग्रेस बिफरी, कहा, यह  विदेश नीति का उल्लंघन

NRC मामले में डर पैदा किया जा रहा है

सीएम ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर(NRC) के मामले में डर पैदा किया जा रहा है. इसके लिए भाजपा की कड़ी आलोचना करती हूं. ममता ने दावा किया कि NRC के डर से बंगाल में छह लोगों की मौत हो गयी. ममता बनर्जी ने भरोसा दिलाते हुए कहा कि मुझ पर भरोसा रखिए,

पश्चिम बंगाल में एनआरसी को कभी मंजूरी नहीं मिलेगी. टीएमसी प्रमुख ने कहा, एनआरसी बंगाल या देश के किसी भी हिस्से में नहीं होगा. असम में यह असम समझौते की वजह से हुआ. कहा असम समझौता 1985 में तत्कालीन राजीव गांधी सरकार और ऑल असम स्टुडेंट्स यूनियन के बीच हुआ था.

सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के विरोध में 18 अक्टूबर को रैली

ममता बनर्जी ने गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. अमित शाह के समक्ष उन्होंने एनआरसी को लेकर चिंता जताई. उन्होंने कहा, मैंने गृह मंत्री को एक पत्र सौंपा है. मैंने एनआरसी से बाहर किये गये 19 लाख लोगों के बारे में बात भी. इन लोगों में कई बंगाली, गोरखा और हिंदी बोलने वाले लोग भी शामिल हैं.

ममता ने कहा कि सही नागरिकों को मौका दिया जाना चाहिए. मैं यहां कई मसलों पर चर्चा के लिए आयी थी.’उन्होंने कहा कि एनआरसी से लोग डरे हुए हैं. किसी भी नागरिक को परेशान नहीं किया जाना चाहिए. इस क्रम में ममता ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण, उन्हें बंद किये जाने के विरोध में टीएमसी द्वारा 18 अक्टूबर को रैली का आयोजन किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः#AlQaeda का गढ़ तो नहीं बन रहा जमशेदपुर! अबतक गिरफ्तार हुए 12 संदिग्ध आतंकियों के जुड़ चुके हैं तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like