Ranchi

सीएम रघुवर दास के निर्देश पर डीजीपी केएन चौबे पहुंचे रिम्स, सुरक्षा-व्यवस्था का लिया जायजा

विज्ञापन

Ranchi: मुख्यमंत्री रघुवर दास के निर्देश के बाद गुरुवार को डीजीपी केएन चौबे रिम्स पहुंचे. जहां उन्होंने रिम्स की सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लिया.

गौरतलब है कि बुधवार को मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक के दौरान दलालों पर सख्ती बरतने और रिम्स परिसर में सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर कई दिशा-निर्देश दिये थे.

इसे भी पढ़ेंःरांची में इन 16 जगहों पर चल रहा है मटका का खेल, हर दिन हो रहा 50 लाख का जुआ

इसके बाद डीजीपी सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लेने रिम्स पहुंचे. और घूम-घूम कर रिम्स परिसर का मुआयना किया. इस दौरान डीजीपी के साथ रांची एसएसपी अनीश गुप्ता, सिटी एसपी सुजाता वीणापाणि, रिम्स के डायरेक्टर सहित कई पुलिस अधिकारी और रिम्स के पदाधिकारी साथ रहे.

मंगलवार को सीएम ने किया था औचक निरीक्षण

सीएम रघुवर दास ने मंगलवार को रिम्स का औचक निरीक्षण किया था और बुधवार को रिम्स की चिकित्सा व सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर प्रोजेक्ट भवन में उच्चस्तरीय समीक्षा की थी.

इसे भी पढ़ेंःसचिवालय सेवा में एसटी प्रशाखा पदाधिकारी के 171 पद स्वीकृत, कार्यरत सिर्फ एक, 99.5% पोस्ट खाली

समीक्षा बैठक के दौरान दलालों पर सख्ती बरतने और रिम्स परिसर में सुरक्षा-व्यवस्था के लिए उन्होंने कई निर्देश दिए थे.
इस दौरान उन्होंने कहा था कि रिम्स की सुरक्षा पुलिस के हाथों में रहेगी.

डीजीपी केएन चौबे रिम्स का दौरा कर जरूरत के मुताबिक, तीन शिफ्ट में सुरक्षा बलों की तैनाती करें. मुख्यमंत्री ने रिम्स निदेशक से कहा कि अस्पताल में एक मरीज के साथ सिर्फ एक ही अटेंडेंट रहे, इसे सुनिश्चित करें.

इमरजेंसी से लेकर सभी वार्डो में भी यह नियम लागू करें. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि रिम्स में ज्यादा भीड़ रहने से न केवल चिकित्सकों को इलाज करने में परेशानी होती है, बल्कि मरीज को भी कष्ट होता है. मरीज के परिजन अस्पताल प्रबंधन को सहयोग करें.

रिम्स में पुलिस-डॉक्टर के बीच हुई थी मारपीट

बुधवार को जहां मुख्यमंत्री ने रिम्स की सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर समीक्षा बैठक की, वहीं बुधवार की रात रिम्स के लेबर वार्ड में महिला पुलिसकर्मी नीला करमाली और महिला डॉक्टर संध्या तिवारी के बीच मारपीट हो गई. मारपीट के दौरान दोनों को चोटें भी आई.

घटना की सूचना पाकर सदर डीएसपी दीपक पांडे मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया. डीएसपी ने बताया कि रिम्स के लेबर वार्ड में 19 जून को एक महिला कैदी भर्ती हुई थी.

महिला की सुरक्षा में सुबह से रात आठ बजे तक पुलिसकर्मी अनीता मिंज की तैनाती की गई थी. जबकि रात 8 बजे से नीला करमाली की ड्यूटी थी.

उसके लेट आने के कारण, दोनों पुलिसकर्मियों में बहस हुई.
मामले का बीच-बचाव करने पहुंची डॉ. संध्या तिवारी के साथ ही नीला का विवाद हो गया और मामला मारपीट तक पहुंच गया.

इसे भी पढ़ेंःलातेहार : गर्भवती महिला को नहीं मिला एंबुलेंस, बेहोशी की हालत में बाइक से लाया गया अस्पताल

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close