न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Internet व #Call दर बढ़ाये जाने पर प्रियंका गांधी ने कहा, अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचा कर गरीबों की जेब काट रही है भाजपा

प्रियंका ने दावा किया, भाजपा ने बीएसएनएल और एमटीएनएल को कमजोर किया और बाकी कंपनियों के लिए कॉल और डेटा महँगा करने का रास्ता खोला.

52

NewDelhi : भाजपा अपने अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए गरीबों की जेब काट रही है.   कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा निजी क्षेत्र की प्रमुख मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों द्वारा  इंटरनेट एवं कॉल की दर बढ़ाने को लेकर सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर हमलावर हुईं,  प्रियंका गांधी ने आरोप लगाते हुए ट्वीट किया, ‘भाजपा पिछले 6 सालों से मोबाइल इंटरनेट और कॉल सस्ता करने की डींगें हाँकती थी. अब इसकी भी हवा निकल गयी.

इसे भी पढ़ें : #HyderabadRapeCase : सपा सांसद जया बच्चन ने  कहा, रेपिस्टों को पब्लिक के हवाले कर देना चाहिए,  पब्‍लिक ही  सजा दे

Sport House

भाजपा ने बीएसएनएल और एमटीएनएल को कमजोर किया

इस क्रम में  प्रियंका ने दावा किया, भाजपा ने बीएसएनएल और एमटीएनएल को कमजोर किया और बाकी कंपनियों के लिए कॉल और डेटा महँगा करने का रास्ता खोला. उन्होंने आरोप लगाया,भाजपा अपने अमीर दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए लगातार जनता की जेब काट रही है.

Related Posts

#Government_Job : केंद्र सरकार में सात लाख नौकरियां, पदों को भरने का निर्देश जारी

केंद्र सरकार में 7 लाख पद खाली हैं. यानी 7 लाख नौकरियां हैं,कैबिनेट की समिति की 23 दिसंबर 2019 को हुई बैठक में सभी मंत्रालयों/विभागों में खाली पड़े पदों को भरने का निर्देश दिया गया है.

जान लें कि वोडाफोन आइडिया  और एयरटेल के साथ-साथ रिलायंस जियो ने भी मोबाइल सेवाओं की दरें  बढा दी हैं, इसकी घोषणा रविवार को  की गयी.  जियो की नयी दरें छह दिसंबर से प्रभावी होंगी. यह  40 प्रतिशत तक महंगी होंगी.वोडाफोन आइडिया ने अपनी प्रीपेड सर्विस के टैरिफ बढ़ाने की घोषणा पहले ही कर दी थी. यह  3 दिसंबर से लागू होगी.

इसे भी पढ़ें : प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को ‘घुसपैठिया कहने पर लोकसभा में हंगामा, अधीर रंजन की माफी पर अड़ी भाजपा

Mayfair 2-1-2020
SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like