न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य में एक स्थान पर तीन साल से पदस्थापित पदाधिकारी हटाये जायेंगे

303
  • झारखंड मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने सभी जिलों के निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त को जारी किया निर्देश

Ranchi : चुनाव से सीधे जुड़े वैसे पदाधिकारी, जो पिछले चार वर्षों के दौरान उसी जिला में तीन वर्ष पूरे कर चुके हैं तथा वैसे पदाधिकारी, जो अपने गृह जिला में पदस्थापित हैं, उनको हटाया जायेगा. यह निर्देश झारखंड मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल ख्यांग्ते ने भारत निर्वाचन आयोग के पत्रांक का हवाला देते हुए सभी जिलों के निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्तों को जारी किया है.

भारत चुनाव आयोग के सचिव ने राज्य के मुख्य सचिव और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को लिखा है पत्र

भारत चुनाव आयोग के सचिव नरेंद्र बुटोलिया ने राज्य के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल ख्यांग्ते को इस आशय का पत्र लिखा है. भारत चुनाव आयोग ने इसे 28 फरवरी तक पूरा करने और मार्च के पहले हफ्ते में कार्रवाई से अवगत कराने को कहा है. निर्देश के अनुसार 31 मई 2019 तक तीन साल पूरा करनेवाले पदाधिकारी का तबादला होगा. गृह जिले में तैनात पदाधिकारी भी हटेंगे. अगले छह महीने में रिटायर होनेवाले पदाधिकारी इससे मुक्त रहेंगे. भारत चुनाव आयोग के निर्देश के आलोक में झारखंड मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने सभी जिलों के निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्तों को पत्र लिखकर कहा है कि लोकसभा चुनाव-2019 को ध्यान में रखते हुए वैसे पदाधिकारियों की सूची तैयार कर संबंधित विभाग को उनके स्थानांतरण हेतु प्रस्ताव भेजा जाये, साथ ही इसकी प्रति विभाग को भी उपलब्ध करायी जाये.

हटेंगे ये अधिकारी

Related Posts

धनबाद : 100 करोड़ घोटाला मामले में बंद कैदी को PMCH में भर्ती करा जवान गायब

जब न्यूज विंग की टीम पीएमसीएच पहुंची तो देखा कि कैदी अकेला वहां इलाज करा रहा है.

SMILE

जिला निर्वाचन अधिकारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी, सहायक निर्वाचन अधिकारी, अपर समाहर्ता, एसडीओ, उप समाहर्ता, सीओ, बीडीओ, आईजी, डीआईजी, राज्य सशस्त्र पुलिस के समादेष्टा, एसएसपी, एसपी, एएसपी, डीएसपी, थाना प्रभारी, पुलिस इंस्पेक्टर, दारोगा और उनके समकक्ष अधिकारी, जो एक स्थान पर तीन वर्ष से पदस्थापित हैं, उनको हटाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- अब होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन हुआ रघुवर सरकार से नाराज, 21 जनवरी से करेगा आमरण अनशन

इसे भी पढ़ें- धनबाद कारा में स्मार्ट फोन तक इस्तेमाल कर रहे हैं वीआईपी कैदी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: