Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

फार्मेसी कोर्स कराने वाले 72 संस्थानों में केवल दो को ही फार्मेसी काउंसिल की मान्यता

नये सत्र की मान्यता के लिए जेटीयू फॉर्मेसी संस्थानों से मांग रहा है आवेदन

Ranchi : राज्य में फॉर्मेसी की पढ़ाई कराने वाले संस्थानों को शैक्षणिक सत्र 2021-22 में एडमिशन लेने के लिए एफिलिएशन लेना होगा. इसके लिए झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी ने सूचना जारी की है. इस सूचना में यूनिवर्सिटी ने कहा है कि वैसे फार्मेसी संस्थान जो एआईसीटीई, फॉर्मेसी काउंसिल से मान्यता प्राप्त हैं वे झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी से एफलिएशन के आवेदन करें. ऐसे संस्थान सत्र 2021-22 के लिए 20 फरवरी तक आवेदन कर सकते हैं. पर राज्य में केवल फॉर्मेसी के दो ही संस्थान ऐसे हैं, जिन्हें सत्र 2021-22 के लिए फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया की मान्यता मिली है.

http://www.pci.nic.in/Diploma_institutions_only__conduct.html

राज्य में 72 संस्थान कराते हैं कोर्स

राज्य में सरकारी, प्राइवेट और पीपीपी मोड में संस्थान चल रहे हैं, जो फॉर्मेसी की पढ़ाई कराते हैं. इन 72 संस्थानों में से डिप्लोमा कोर्स कराने वाले संस्थान 17, एक वर्षीय फॉर्मेसी कोर्स कराने वाले संस्थान 54 और स्नातक स्तरीय कोर्स कराने वाले संस्थान की संख्या एक है. बता दें कि फॉर्मेसी कोर्स कराने वाले संस्थानों को फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया और एआईसीटीई के साथ संबंधित राज्य के विश्वविद्यालय से एफलिएशन लेना होता है. इस एफलिएशन के बाद ही संस्थान कोर्स संचालित करा सकता है.

इसे भी पढ़ें-कुंदा में नहीं खुला धान क्रय केंद्र, खलियान में पड़े हैं धान

15 मई तक विभाग को भेजनी है सूची

झारखंड तकनीकी विश्वविद्यालय से एफलिएशन ले चुके संस्थानों की सूची टेक्निकल एजुकेशन डिपार्टमेंट को भेजा जाता है. शैक्षणिक सत्र 2021-22 के विभाग ने यूनिवर्सिटी को 15 मई तक का समय दिया है. इस अवधि तक जितने संस्थान एफलिएशन ले लेते हैं, उन्हें ही कोर्स संचालित करने की अनुमति मिलेगी.

दो ही संस्थानों को काउंसिल की मान्यता

फॉर्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर काउंसिल से मान्यता प्राप्त झारखंड में संचालित संस्थानों की सूची दी गयी है. फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया की वेबसाइट http://www.pci.nic.in/Diploma_institutions_only__conduct.html की इस सूची के अनुसार डिप्लोमा कोर्स कराने वाले 17 संस्थानों में से दो ही संस्थान ऐसे हैं, जिन्हें काउंसिल की मान्यता 2021-22 या इससे आगे के सत्र के लिए मिली है. वहीं एक वर्षीय कोर्स कराने वाले 54 संस्थानों में से एक भी संस्थान ऐसे नहीं है, जिन्हें मान्यता मिली हो.

इसे भी पढ़ें-पूजा भारती हत्याकांड: सीबीआई जांच की मांग को लेकर राज्यपाल से मिला झारखंड प्रदेश शोंडिक संघ

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: