DumkaJharkhand

2 अक्‍टूबर को जिले को करें ओडीएफ घोषित : उपायुक्‍त

Dumka : समाहरणालय सभागार में जिले को ओडीएफ घोषित करने को लेकर एक बैठक आयोजित की गयी. बैठक की अध्यक्षता उपायुक्त मुकेश कुमार ने की. बैठक में मुख्य रूप से जिले को ओडीएफ घोषित करने पर चर्चा की गयी. उपायुक्त ने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि 2 अक्टूबर 2018 को पूरे राज्य के साथ साथ दुमका जिला को भी ओडीएफ घोषित करना लक्ष्य बताया. उन्होंने कहा कि कोई भी कार्य अगर दृढ़ इच्छा शक्ति से की जाये तो वह कार्य निश्चित रूप से सफल होता है. उन्होंने जिला प्रशासन के सभी वरीय पदाधिकारियों को एक-एक प्रखंड आवंटित कर ओडिएफ करने का निर्देश दिया.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें: कोलेबिरा सीट यूपीए गठबंधन ही जीतेगा : धीरज साहू

MDLM

शौचालय निर्माण के कार्य की प्रगति की समीक्षा करें

उन्होंने कहा कि सभी वरीय पदाधिकारी बिना किसी सूचना के मुख्यालय ना छोड़ें. प्रत्येक दिन अपने आवंटित प्रखंड में जाकर शौचालय निर्माण के कार्य की प्रगति की समीक्षा करें तथा शौचालय निर्माण में लगने वाले सामग्रियों की समस्या को अपने स्तर से सुलझायें प्रत्येक प्रखंड के वरीय पदाधिकारी पंचायत स्तर पर वरीय पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति करें. साथ ही प्रखंड विकास पदाधिकारी भी अपने स्तर से वरीय प्रभारी बनाकर निर्माण कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया. सामग्री कोषांग, लॉजिस्टीक कोषांग, टेक्निकल कोषांग, यूसी कलेक्शन कोषांन, आईईसी कलेक्शन कोषांग, रिर्पोटिंग कोषांग, मॉनिटरिंग कोषांग भी अपने कर्तव्य का निर्वहण पूरी तत्परता से करने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें: हजारीबाग के केरेडारी में दुधमुंही बच्ची समेत तीन की हत्या

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों करें जागरूक

उन्होंने कहा कि शैचालय निर्माण के गुणवत्ता से किसी प्रकार की समझौता नहीं की जाये. किसी भी कीमत पर शौचालय के छत के स्थान पर करकट का प्रयोग ना करें. वॉल पेंटिंग, श्लोगन राईटिंग का कार्य किया जाये. नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाये. शौचालय के उपयोग से होने वाले फायदे की जानकारी दी जाये. एसबीएम प्रत्येक दिन के प्रगति प्रतिवेदन समर्पित करें ताकि मुख्यालय को वर्तमान स्थिति की जानकारी मिल सके.

Related Articles

Back to top button