DhanbadJharkhand

धनबाद : पानी के तेज बहाव में बही ओबी मशीन, ऑपरेटर ने कूदकर बचायी जान, दूसरा भी बाल-बाल बचा

विज्ञापन

Dhanbad : धनबाद के बाघमारा बीसीसीएल ब्लॉक दो के बीओसीपी माइनस की जमुनिया कोलियरी में करोड़ों की ड्रिल मशीन पानी के तेज बहाव में बह गयी. बहती हुई वह ओबी में लटक गयी. इस दौरान ऑपरेटर सुरेश मांझी ने कूदकर अपनी जान बचायी. वहीं पास खड़े दूसरा ऑपरेटर मनोज वेलदार ने नीचे भाग कर अपनी जान बचायी.

घटना के विषय में बताया जा रहा है कि शिफ्ट इंचार्ज संजीव कुमार के दिशा-निर्देश पर ड्रिल मशीन 862 को 10 नंबर सीम में ड्रिल करने के लगाया गया था. इस दौरान पानी का बहाव ड्रिल मशीन के पास पहुंच गया. ड्रील मशीन जैक के सहारे खड़ी की गयी थी जो पानी के तेज बहाव में जैक की मिट्टी को अपने साथ बहा ले गयी.

जैक के सहारे खड़ी ड्रिल मशीन करवट लेते हुए पलटने लगी जिसके बाद केबिन में बैठे ऑपरेटर सुरेश ने कूद कर अपनी जान बचायी. दूसरा ऑपरेटर मनोज करवट लेती मशीन के नीचे से भाग कर अपनी जान बचायी.

advt

इसे भी पढ़ें : पलामू : प्रधानमंत्री द्वारा उद्घाटन के सात महीने बाद भी मेडिकल कॉलेज का निर्माण अधूरा

करोड़ो की मशीन खाई में

करोड़ों रुपये की मशीन पलटते हुए नीचे 15 फीट गहरी खाई में गिर गयी और जमीन से बीस फिट ऊपर ओबी में लटक गयी.

दुर्घटना की सूचना मिलने पर पीओ विनोद पांडेय, मैनेजर अरविंद कुमार, एरिया सेफ्टी इंचार्ज विंध्याचल सिंह, डी हाजरा सहित अन्य प्रबंधकीय टीम के सदस्य मौके पर पहुंचे. फंसी मशीन को निकालने का प्रयास करने लगे. डोजर व क्रेन के जरिये मशीन को उठाने का कार्य करने लगे लेकिन पानी के बहाव के कारण मशीन निकालने में प्रबंधन को परेशानी का सामना करना पड़ रहा रहा था.

वही ऑपरेटर सुरेश मांझी तथा मनोज वेलदार ने बताया कि सेफ्टी के बिना ऐसे स्थानों में मशीन को लगाने का आदेश प्रबंधन देती है जहां जान जोखिम में रहती है. अब तक मेरा हाथ पांव कांप रहा है. प्रबंधन दवाब में काम करवाती है.

पीओ विनोद पांडेय ने बताया कि ड्रिल मशीन दुर्घटनाग्रस्त हुई है. कोई हताहत नही हुआ है. मशीन को निकालने का प्रयास किया जा रहा है. ऑपरेटर से बात की गयी है. किसी तरह की चोट नही आयी है.

इसे भी पढ़ें : जिस नाले में गिर कर बच्ची फलक की हुई थी मौत, 44 लाख में निगम करायेगा उसका निर्माण

प्रायः ब्लॉक दो में होती है दुर्घटना

ब्लॉक दो में हमेसा दुर्घटना होती है. लेकिन बीसीसीएल प्रबंधन इससे कोई सीख नही लेता. नियमों को ताक पर रख कर कोयला उत्पादन करवाने में लगी रहती है. कर्मियों की जान जोखिम में डालने से परहेज नही करती.

इसे भी पढ़ें : फोटोग्राफर का सिर फोड़ा, संवाददाता की बाइक तोड़ दी…क्या कांग्रेस एक हुड़दंगी पार्टी है…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close