Business

मेल इनफर्टिलिटी को दूर करेगा ओएसिस एफ

Ranchi : वर्ल्ड आइवीएफ डे के मौके बरियातू रोड में ओएसिस एफ नामक एक अनूठा क्लिनिक लांच किया है, जहां एक ही छत के नीचे सभी प्रकार का रीप्रोडक्शन ट्रीटमेंट प्रदान किया जाएगा. इनफर्टिलिटी यानि बांझपन को फीमेल की समस्या माना जाता है और महिलाएं इसका इलाज भी कराती हैं. बच्चे होना और रीप्रोडक्शन संबंधी समस्याओं के लिए फीमेल्स को ही जिम्मेवार माना जाता है. लेकिन दुनिया भर में छह कपल्स में एक कपल में इनफर्टिलिटी होती है.

उसमें भी 50 परसेंट में इनफर्टिलिटी के लिए मेल जिम्मेवार होते हैं. एड्रोलाइफ ने इस समस्या को हल करने के लिए एक ऐसी जगह बनाई है जहां डॉक्टर द्वारा पैरेंट्स बनने की चाहत रहने वाले पुरुषों को ट्रीट किया जाता है.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics 2020: बैडमिंटन में सात्विक और चिराग दूसरे दौर में, प्रणीत को मिली हार

advt

एक्सपर्ट्स ने कहा कि बीमारी, चोट, लांग टर्म हेल्थ इश्यू, लाइफस्टाइल और कुछ अन्य कारक मेल्स के इनफर्टिलिटी का कारण बन सकते हैं. इसलिए बीमारी की सही पहचान करना और सही समय पर ट्रीटमेंट जरूरी है.

साथ ही कहा कि हम आइवीएफ के लिए स्पर्म सेलेक्शन टेक्निक जैसे माइक्रो-टीइएसई, एमएसीएस, माइक्रोफ्लुइड्स, आइएमएसआई के विशेषज्ञ हैं.

इसे भी पढ़ें :Ranchi: हिनू नदी, बड़ा तालाब और कांके डैम के किनारे बने इन 180 भवनों को तोड़ने का है आदेश

तनाव, वैरिकोसेले, मोटापा, गैजेट्स का उपयोग, लाइफस्टाइल में बदलाव, डाइट मेल्स में इनफर्टिलिटी के मामले में कोई लक्षण नहीं होते. लेकिन तनाव, स्मार्टफोन और लैपटॉप जैसे गैजेट्स के हानिकारक प्रभावों से लोग अनजान हैं.

एंड्रोलाइफ माइक्रो टीईएसई का उपयोग एजोस्पर्मिया से ग्रसित पुरुषों के टेस्टिकल से स्पर्म प्राप्त करने के लिए किया जाता है. मौके पर प्रेम कुमार यूरो सर्जन सह हेड एंड्रो लाइफ, इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट डॉ सरबजाया सिंह व अन्य मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें :ICSE, ISC Board Result 2021: सीआईएससीई बोर्ड परिणाम घोषित, यहां चेक करें अपना रिजल्ट

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: