न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो : नर्सिंग होम व डायग्नोस्टिक सेंटरों में नियमों का खुलेआम उल्लंघन, विभाग की टीम ने की छापेमारी

नोडल अधिकारी डॉ राहुल सिंह के नेतृत्व में टीम ने अधिकांश नर्सिंग होम को बेहद गंदा पाया.

888

DK 

Bokaro : राज्य के स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने मंगलवार को लगभग आधा दर्जन नर्सिंग होम और डायग्नोस्टिक सेंटर में स्थानीय अधिकारियों के साथ संयुक्त छापेमारी कर यहां क्लिनिकल इस्टैब्लिशमेंट एक्ट के खुलेआम हो रहे उल्लंघन को उजागर किया.

नोडल अधिकारी डॉ राहुल सिंह के नेतृत्व में टीम ने अधिकांश नर्सिंग होम को बेहद गंदा पाया. वार्ड में जहां मरीज भर्ती थे वहां काफी गंदगी पायी गयी. उनमें अग्नि से सुरक्षा की भारी कमी और स्वास्थ्य के देखभाल की खराब व्यवस्था थी.

टीम द्वारा जिन नर्सिंग होमों का निरीक्षण किया गया, वे शहर के सिटी सेंटर इलाके के राज नर्सिंग होम और वृंदावन नर्सिंग होम हैं. इनके अलावा कोऑपरेटिव कॉलोनी में नरैनी अस्पताल, सेवा सदन और कुमार डायग्नोस्टिक का भी निरीक्षण किया गया. नरैनी अस्पताल ​​क्लीनिकल इस्टैब्लिशमेंट अधिनियम के तहत पंजीकरण के बिना चल रहा था और बहुत गंदा था. टीम ने कहा कि वह इसके बंद होने की सिफारिश करेगा.

इसे भी पढ़ें : धनबाद : रेलवे ने झुग्गी-झोपड़ियां हटाने के लिए भेजा नोटिस, नाराज लोगों ने किया मेयर का घेराव

एक ही रूम में एक्सरे और अल्ट्रासाउंड 

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

टीम के सदस्यों ने कहा, ” कुमार डायग्नोस्टिक सेंटर में एक्स-रे मशीन और अल्ट्रासाउंड मशीन का संचालन एक ही कमरे में देखकर हमलोग आश्चर्यचकित हैं. वृंदावन नर्सिंग होम में वार्ड खराब हालत में था. कमरे में छत से पनी टपक रहा था जहां महिला मरीज भर्ती थी.  सेवा सदन नर्सिंग होम आयुष्मान योजना के तहत रोगियों को भर्ती कर रहा है, लेकिन उपचार में हो रहे खर्चे के बारे में उनको नहीं बता रहा था. वह भी बहुत गंदा था और अत्यधिक बेड लगे हुए थे.”

डीसी कृपानंद झा को इन नर्सिंग होम के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की सिफारिश की जायेगी. टीम में जिला डेटा प्रबंधक कंचन कुमारी, जिला विशेषज्ञ पवन कुमार श्रीवास्तव और जिला कार्यक्रम अधिकारी प्रदीप कुमार सिन्हा शामिल थे.

श्रीवास्तव ने कहा. “लगभग सभी नर्सिंग होम में अग्नि सुरक्षा और अपशिष्ट प्रबंधन का अभाव है, जो वास्तव में चिंताजनक है.”

उन्होंने कहा कि “वृंदावन नर्सिंग होम में आग बुझाने वाले उपकरण 2016 में एक्सपएर हो गए थे. छापेमारी जारी रखी जायेगी.”

इसे भी पढ़ें : पलामू : पूर्व मुखिया ने कुल्हाड़ी से पत्नी की हत्या के बाद खुद जहर खाकर दी जान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: