Khas-KhabarRanchi

राज्य में रजिस्टर्ड मजदूरों की संख्या दस लाख 50 हजार, उपलब्ध रोजगार मात्र 3000

भवन निमार्ण और टेक्सटाइल सेक्टर में मांग अधिक

Chhaya

Ranchi: राज्य में कुल रजिस्टर्ड मजदूरों की संख्या दस लाख 50 हजार है. लेकिन राज्य सरकार वर्तमान समय में मात्र तीन हजार लोगों को ही रोजगार मुहैया करा पायेगी. ऐसा इसलिये क्योंकि विभिन्न नियोक्ताओं की ओर से काम के लिये महज तीन हजार लोगों की ही मांग की गयी है. ऐसे में अन्य दस लाख 47 हजार लोगों को फिलहाल रोजगार के लिये इंतजार करना होगा.

जबकि कुल रजिस्टर्ड मजदूरों की संख्या में प्रवासी मजूदरों की संख्या अधिक है. वहीं कुछ विद्यार्थी समेत अन्य क्षेत्र के लोग भी है. लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी श्रम विभाग के कंट्रोल रूम में मजदूर रजिस्टर्ड हो रहे हैं. जबकि पिछले कुछ दिनों से श्रम विभाग की सहयोगी संस्था फिया फाउंडेशन की ओर से इन मजदूरों को रोजगार मुहैया कराने की कोशिश की जा रही है. श्रम विभाग में आये मांगों में भवन निमार्ण और टेक्सटाइल सेक्टर की मांग अधिक है. इसमें सभी मांग राष्ट्रीय स्तर के है.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः रिम्स के इतिहास में सबसे लंबे दिनों तक इलाज कराने वाले मरीज हैं राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव

1500 लोगों की मांग भवन निमार्ण क्षेत्र में

इन कामों में 1500 लोगों की मांग भवन निमार्ण क्षेत्र में की गयी है. वहीं अन्य मांग टेक्सटाइल सेक्टर में है. सभी मांग अन्य राज्यों से है. राज्य में रोजगार सृजन की संभावना काफी कम हो गयी है. टेक्सटाइल में दस कंपनियां आयी है. जिसमें कॉटन वर्ल्ड बैंगलूरू में 500, एशियन फैब्रिक प्राइवेट लिमिटेड तमिलनाडू में 200 लोगों की मांग समेत अन्य कंपनियों से मांग आयी है. इसके साथ ही पुणे, गुजरात, चेन्नई, त्रिपुरा से भी लोगों की मांग विभाग के पास है. इसके पहले राज्य सरकार की ओर से 1660 मजूदरों को लेह-लद्दाख भेजा गया था. जो अक्टूबर बाद वापस आ जायेंगे.

प्रवासी मजूदरों को दी जायेगी प्राथमिकता

विभाग से जानकारी मिली है कि लोगों की नौकरी के संबध में विज्ञापन जारी किया जायेगा. इसमें प्रवासी मजूदरों को प्राथमिकता दी जायेगी. प्रवासी मजूदरों के बाद ही अन्य लोगों को नौकरी दी जायेगी. बता दें इसके लिये राज्य सरकार ने लेबर नेट नामक बैंगलूरू की संस्था से एमओयू किया है. जो मजदूरों को नौकरी दिलाने के साथ ही उनकी ट्रैकिंग करें. जिससे उनका शोषण न हो. वहीं श्रम विभाग के साथ मिलकर फिया फाउंडेशन 27 मार्च 2020 से काम कर रही है. जिसने प्रवासी मजूदरों के रजिस्ट्रेशन और उन्हें वापस लाने में मदद की. अब संस्था विभाग के साथ मजदूरों को रोजगार मुहैया करा रही है.

इसे भी पढ़ेंः जेईई एडवांस्ड का रिजल्ट जारी, चिराग इंडिया और फिटजी के दयाल कुमार झारखंड टॉपर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button