न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में आयकर दाताओं की संख्या बढ़ी

619
  • आठ सालों में तीन सौ गुना बढ़ा आयकर
  • एमएस धौनी झारखंड के सबसे बड़े टैक्स पेयर

Ranchi: झारखंड में आयकर दाताओं की संख्या लगातार बढ़ रही है. 2017-18 में 5.02 लाख नये करदाता आयकर के दायरे में आये हैं. राज्य भर में आयकर के संग्रहण में 321 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है. जहां 2010-11 में आयकर से सरकार को 1691.44 करोड़ रुपये का राजस्व मिला था. वह 2017-18 में बढ़कर 5436.19 करोड़ तक पहुंच गया है. करदाताओं में हिंदू अविभाजित परिवार, कारपोरेट टैक्स और अन्य प्रत्यक्ष कर शामिल हैं.

सीसीएल सबसे अधिक टैक्‍स देने वाली कंपनी

झारखंड में अब भी टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी सबसे अधिक आयकर का भुगतान करते हैं. 2017-18 के लिए धौनी ने 12.17 करोड़ रुपये का आयकर दिया था. 2016-17 में धौनी ने 10.93 करोड़ रुपये आयकर के रूप में दिये थे. इतना ही नहीं झारखंड में सीसीएल सर्वाधिक टैक्स देनेवाली कंपनी बन गयी है. साथ ही साथ जमशेदपुर की कंपनी टाटा टिमकेन और जैमीकोल भी अधिक कर भुगतान कंपनी की श्रेणी में आ गयी है.

कोचिंग संस्था ब्रदर्स अकादमी, कश्यप आइ मेमोरियल अस्पताल और बिग शॉप को अत्यधिक कर देनेवाला पार्टनरशिप फर्म घोषित किया गया है. व्यक्तिगत तौर पर अत्यधिक कर देनेवालों में नंद किशोर चौधरी और उदय शंकर प्रसाद का नाम भी शामिल है.

झारखंड में आय कर से प्राप्त राजस्व

वित्तीय वर्ष   राजस्व संग्रहण

2010-11   1691.44 करोड़

2011-12   1977.7 करोड़

2012-13    2497.9 करोड़

2013-14    3482.7 करोड़

2014-15    1344.70 करोड़

2015-16    3597.44 करोड़

2016-17    4546.72 करोड़

2017-18    5436.19 करोड़

स्रोत :-केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: