National

#NSA अजीत डोभाल ने कहा, पुलिस का ड्यूटी में फेल होना लोकतंत्र के लिए खतरनाक

NewDelhi : NSA अजीत डोभाल ने कहा है कि अगर पुलिस कानून का पालन नहीं करती है तो इससे सीधे-सीधे लोकतंत्र को नुकसान पहुंचता है. NSA  देशभर के युवा पुलिस अधीक्षकों के एक सम्मेलन में बोल रहे  थे.  जान लें कि दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट हिस्से में हिंसा फैलने के तीन दिन बाद गृह मंत्रालय के आदेश पर NSA अजीत डोभाल ने खुद मोर्चा संभाल लिया था.  हिंसा प्रभावित इलाकों में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया, जिसके बाद हालात सामान्य हुए.

इसे भी पढ़ें : #Nirbhaya_Case :  दिल्ली पटियाला कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया, दरिंदों को 20 मार्च को फांसी, निर्भया की मां ने खुशी जताई

अजीत डोभाल खुद लोगों का हालचाल जानने पहुंचे थे

Catalyst IAS
ram janam hospital

हिंसा के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल खुद लोगों का हालचाल जानने पहुंचे थे.  हिंसा पीड़ितों ने पुलिस पर आरोप लगाया  कि अगर समय रहते कार्रवाई की गयी होती तो शायद हिंसा इतनी नहीं फैलती.   NSA ने हिंसा प्रभावित इलाकों में लोगों को भरोसा दिलाया था कि अब वे खुद आ गये हैं, किसी को डरने की जरूरत नहीं है. गुरुवार को NSA का एक ऐसा बयान सामने आया है जो कहीं ना कहीं पुलिस को अपने अंदर झांकने को विवश करेगा.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसे भी पढ़ें : #Delhi_Violence : कोर्ट में सरेंडर करने पहुंचे ताहिर हुसैन को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया

पुलिस कानून लागू करने में नाकाम रहती है तो लोकतंत्र विफल होता है 

NSA ने कहा कि अगर पुलिस कानून लागू करने में नाकाम रहती है तो लोकतंत्र विफल होता है.  डोभाल ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले पुलिस के एक थिंक टैंक पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (बीपीआरडी) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहा, कानून बनाना लोकतंत्र में सबसे पवित्र काम है.  पुलिसकर्मी उस कानून को लागू करने वाले लोग हैं. अगर आप नाकाम होते हैं तो लोकतंत्र नाकाम होता है.

अजीत डोभाल  ने कहा कि लोकतंत्र में कानून के प्रति पूरी तरह से समर्पित होना बहुत महत्वपूर्ण है.  उन्होंने कहा, आपको निष्पक्षता और तटस्थ भाव से काम करना चाहिए तथा यह भी महत्वपूर्ण है कि आप विश्वसनीय दिखें. उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि हम जनता के लिए पुलिस के बारे में सही धारणा बनायें.कहा कि यह किया जाना चाहिए क्योंकि धारणा से लोगों को भरोसा मिलता है और इससे विश्वास बढ़ता है जिससे लोग मनोवैज्ञानिक रूप से अधिक सुरक्षित महसूस करते हैं.

इसे भी पढ़ें : कांग्रेस के सात सांसद पूरे सत्र के लिए लोकसभा से सस्पेंड, अधीर रंजन बोले- हम झुकने वाले नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button