न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2019 चुनाव के बाद पूरे देश में लागू होगा एनआरसी- ओम माथुर

देश को अवैध प्रवासियों का धर्मशाला नहीं बनने दे सकते, एक भी भारतीय का नाम नहीं छूटेगा

247

New Delhi: भारतीय जनता पार्टी के सांसद और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर ने कहा है कि आगामी आम चुनाव के बाद पूरे देश में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) को लागू किया जाएगा.

देश के सभी बड़े शहरों में हैं बांग्लादेशी घुसपैठिए

ओम माथुर ने कहा कि आज देश का कोई ऐसा बड़ा शहर बाकी नहीं है, जो बांग्लादेशी घुसपैठियों की समस्या का सामना न कर रहा हो. उनका यह भी कहना है कि दूसरे देशों के लोगों के लिए भारत को ‘धर्मशाला’ नहीं बनने दिया जा सकता.

इसे भी पढ़ें- एनआरसी लागू कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगी झारखंड सरकार

इंदिरा और राजीव गांधी ने किया था NRC का समर्थन, राहुल कर रहे विरोध

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक ओम चौधरी ने यह बात सोमवार को राजस्थान के झुंझुनू में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही. एनआरसी को लेकर इस दौरान उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना भी साधा. उन्होंने कहा कि एनआरसी की पहल कांग्रेस के ही भूतपूर्व नेताओं इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने की थी. कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए की सरकार के दस साल के शासन में राहुल गांधी इसे लागू नहीं करा सके. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार भाजपा ने असम से इसकी शुरुआत कर दी है.

इसे भी पढ़ें-एनआरसी पर कांग्रेस में मतभेद, वर्किग कमेटी की बैठक में होगा मंथन

अभी नहीं रोका तो ग्रेटर बांग्लादेश की मांग करने लगेंगे

ओम माथुर ने कहा कि असम, बंगाल, त्रिपुरा, बिहार का सीमांचल, झारखंड का साहिबगंज और गढ़वा जैसे इलाके बांग्लादेशियों का गढ़ बनते जा रहे हैं. अगर इन्हे नहीं रोका गया तो अवैध बांग्लादेशी ग्रेटर बांग्लादेश की मांग करने लगेंगे. कानून व्यवस्था की समस्या पैदा होनी शुर हो गई है.

इसे भी पढ़ें-इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ने असम के एनआरसी को खारिज करने की मांग की

नाम छूटने का मतलब ये नहीं कि NRC की कवायद ही गलत है

भाजपा उपाध्यक्ष के इस बयान से पहले 30 जुलाई को असम में एनआरसी की दूसरी सूची जारी की गई थी. इस सूची में 40 लाख लोगों के नाम छूट गए थे. यानी उन्हें भारतीय नागरिक नहीं माना गया है. इस मुद्दे को ‘राजनीति से प्रेरित’ कदम बताते हुए विपक्षी दलों ने सरकार पर हमलावर रुख बना रखा है. हालांकि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से भी स्पष्ट किया जा चुका है कि एनआरसी से किसी भी भारतीय नागरिक को छूटने नहीं दिया जाएगा. इस बीच असम में एनआरसी की सूची में अपना नाम जुड़वाने को लेकर आपत्तियों और सुझाव की प्रक्रिया भी शुरू की जा चुकी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: