National

#NRC का सभी धर्मों पर पड़ेगा असर, नहीं लागू होने देंगे इसे: ठाकरे

विज्ञापन

Mumbai: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को कहा कि संशोधित नागरिकता कानून से डरने की कोई जरूरत नहीं है. हालांकि साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजी को लागू नहीं होने देगी क्योंकि इसका ‘‘असर सभी धर्मों पर’’ पड़ेगा.

मुख्यमंत्री ने पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में अपने तीसरे साक्षात्कार में कहा कि बांग्लादेशी और पाकिस्तानी शरणार्थियों को देश से बाहर निकालना शिवसेना की पुरानी मांग रही है.

इसे भी पढ़ें-
PM ने किया राम मंदिर ट्रस्ट बनाने का ऐलान, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र होगा नाम

advt

एनआरसी का असर हिंदुओं पर भी पड़ेगा

शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) भारतीय नागरिकों को देश से बाहर निकालने के लिए नहीं है लेकिन राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का असर हिंदुओं पर भी पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि भारत को पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यकों की संख्या जानने का अधिकार है जिन्होंने अपने देशों में सताये जाने के बाद भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन दिया. जब वे यहां आते हैं तो क्या उन्हें ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ के तहत मकान मिलेंगे? उनके बच्चों के रोजगार और शिक्षा का क्या? ये सभी मुद्दे महत्वपूर्ण है और हमें जानने का अधिकार है.

ठाकरे ने कहा कि मुख्यमंत्री के तौर पर मुझे यह जानना चाहिए कि इन लोगों को मेरे राज्य में कहां फिर से स्थापित करेंगे. हमारे खुद के लोगों के पास रहने की पर्याप्त जगह नहीं है. क्या ये लोग दिल्ली, बेंगलुरु या कश्मीर जाएंगे क्योंकि अनुच्छेद 370 हट गया है?

इसे भी पढ़ें-जनता के पैसों की बर्बादी का उदाहरण है बोकारो सिटी पार्क में बना पूर्वी भारत का सबसे बड़ा म्यूजिकल फाउंटेन

adv

नौ फरवरी को मुंबई में ठाकरे CAA-NCR के समर्थन में रैली करेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि कई कश्मीरी पंडित परिवार अपने ही देश में शरणार्थियों की तरह रह रहे हैं. सीएए नागरिकों को देश से बाहर करने के लिए नहीं है. उन्होंने कहा कि हालांकि एनआरसी से हिंदुओं और मुसलमानों पर असर पड़ेगा और राज्य सरकार इसे लागू नहीं होने देगी.

अपने चचेरे भाई और मनसे प्रमुख राज ठाकरे पर तीखा हमला करते हुए शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि एनआरसी वास्तविकता नहीं है और इसके समर्थन या इसके खिलाफ ‘‘मोर्चे’’ की जरूरत नहीं है. गौरतलब है कि राज ठाकरे नौ फरवरी को मुंबई में सीएए और एनआरसी के समर्थन में रैली करेंगे.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर एनआरसी लागू की जाती है तो जो इसका समर्थन कर रहे हैं उन पर भी इसका असर पड़ेगा. उन्होंने पाकिस्तानी मूल के संगीतकार अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार देने के केंद्र के फैसले पर भी निशाना साधा. उन्होंने किसी का नाम लिए बिना कहा कि एक प्रवासी केवल प्रवासी होता है. आप उन्हें पद्मश्री से सम्मानित नहीं कर सकते. 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button