Fashion/Film/T.VLead NewsSports

अब ‘दादा’ की भी सक्सेस स्टोरी दिखेगी सिल्वर स्क्रिन पर, जानें सौरव गांगुली ने क्या कहा

बायोपिक का निर्माण लव रंजन और अंकुर गर्ग करेंगे

Naveen Sharma

Ranchi : बॉलीवुड में पिछले करीब एक दशक से बायोपिक फिल्में बनाने का चलन तेज हुआ है. खासकर खिलाड़ियों के जीवन पर बायोपिक बनाने का सिलसिला तो काफी तेज हुआ है. इस ट्रेंड को बढ़ावा इसलिए भी मिल रहा है कि इन फिल्मों ने बाक्स आफिस पर भी अपनी सफलता का परचम लहराया है.

advt

फिल्म प्रोडक्शन हाउस लव फिल्म्स ने भारतीय क्रिकेट के लीजेंड और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली पर बायोपिक फिल्म बनाने की घोषणा की है.

दादा के नाम से मशहूर सौरव गांगुली निर्विवाद रूप से भारत के सबसे सफल और विवादास्पद क्रिकेट कप्तान में से एक रहे हैं और उनका किरदार हमेशा से फिल्म के लिए एक दिलचस्प विषय था.

एक क्रिकेटर के रूप में 90 के दशक से लेकर वर्तमान में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड में अहम भूमिका के साथ वर्तमान भारतीय क्रिकेट को संवारने तक सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट के लिए कई बार अहम योगदान दिया है.

इसे भी पढ़ें :कोल इंडिया पर डेढ़ लाख करोड़ बकाया, विपक्ष साथ दे तो करा सकता हूं काम बंद : हेमंत

क्या लिखा सौरव गांगुली ने

अपनी बायोपिक के बारे में जानकारी साझा करते हुए सौरव गांगुली ने लिखा, ‘क्रिकेट मेरा जीवन रहा है, इसने मेरे सिर को ऊंचा करके आगे बढ़ने का आत्मविश्वास और क्षमता दी, पोषित करने वाली एक यात्रा.

यह बात सुनकर रोमांचित हूं कि लव फिल्म्स मेरी यात्रा पर एक बायोपिक का निर्माण करेगा और इसे बड़े परदे पर लाएगा.’ गांगुली को अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ-साथ उनके विवादास्पद रवैये के लिए भी जाना जाता है.

उनका जीवन भारतीय क्रिकेट में सबसे आकर्षक हिस्सों में से एक है और यह बड़े पर्दे पर दर्शकों के लिए भी एक रोमांचक अनुभव हो सकता है. इस बायोपिक का निर्माण लव रंजन और अंकुर गर्ग करेंगे.

इसे भी पढ़ें :बिहार को आवंटित हुए 4 मिनरल ब्लॉक, अब बदल जायेगी प्रदेश की अर्थव्यवस्थापढ़ें :

चक दे इंडिया और पान सिंह तोमर की सफलता ने दिखाई राह

खिलाड़ियों के जीवन पर बायोपिक बनाने का ट्रेंड शाहरूख खान के लीड रोल वाली फिल्म चक दे इंडिया से शुरू हुआ था. इसमें शाहरूख का रोल पूर्व हॉकी खिलाड़ी और कोच मीर रंजन नेगी के जीवन पर आधारित था.

नेगी खुद भारतीय हॉकी टीम के सदस्य रहे हैं और महिला हॉकी टीम के कोच के तौर पर उन्होंने टीम को जो सफलता दिलाई थी उसकी ही कहानी चक दे इंडिया में दिखायी गयी थी. इसे दर्शकों ने काफी पसंद किया था. बॉक्स आफिस पर फिल्म ने अच्छे पैसे जुटाए थे.

इसे भी पढ़ें :अमर बाउरी विधानसभा से रोते हुए निकले, कहा- अध्यक्ष ने विधान सभा में बोलने नहीं दिया (देखें वीडियो)

पान सिंह तोमर को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला

चक दे इंडिया की सफलता के बाद एक तरह से खिलाड़ियों के जीवन पर फिल्में बनाने को प्रोत्साहन मिला. फिल्म निर्देशक तिग्मांशु धुलिया ने एथलीट पान सिंह तोमर पर उनके नाम से ही पान सिंह तोमर (2010) फिल्म बनायी थी.

पान सिंह भारतीय सेना में थे और वे 1950 और 1960 के दशक में सात बार के राष्ट्रीय स्टीपलचेज़ चैम्पियन थे. इन्होंने एशियाई खेलों में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया था. बाद में पारिवारिक विवाद के कारण वे सेना छोड़ कर चंबल की घाटी में डाकू बन गये थे.

इनके जीवन के उतार चढ़ाव पर बनी तिग्मांशु ने बेहतरीन फिल्म बनायी थी. इरफान के लीड रोल वाली इस फिल्म को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला था.

इसे भी पढ़ें :50 पीस पॉलिथीन मिला तो 1000 रुपये फाइन, अगले हफ्ते से चलेगा निगम का अभियान

भाग मिल्खा भाग

इसके बाद फिल्म निर्माता और निर्देशक राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने भारत के स्टार एथलीट मिल्खा सिंह के जीवन पर आधारित फिल्म भाग मिल्खा भाग (2013) बनायी थी. फरहान अख्तर ने मिल्खा सिंह की भूमिका बहुत बढ़िया ढंग से निभाई थी. दर्शकों ने भी फिल्म को काफी पसंद किया था.

इसे भी पढ़ें :NIRF Ranking 2021: बेस्ट कॉलेजों में मिरांडा हाउस No 1, आईआईटी मद्रास ओवरऑल टॉप, देखें लिस्ट

मेरीकॉम का दमदार पंच

भारत के खिलाड़ियों में सबसे प्रेरक जीवन जीनेवाली महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम के जीवन पर भी बायोपिक मेरीकॉम (2014) बनायी गयी थी. इसमें प्रियंका चोपड़ा ने मैरीकॉम का रोल बहुत ही बढ़िया तरीके से निभाया था. ये फिल्म भी हिट हुई थी.

धौनी – अनटोल्ड स्टोरी का धमाका

भारतीय क्रिकेट टीम के तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के जीवन पर नीरज पांडेय ने धौनी -अनटोल्ड स्टोरी (2016) नाम से फिल्म बनायी थी. इस फिल्म ने तो बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त सफलता हासिल की थी. धौनी के रोल में सुशांत सिंह राजपूत खूब जमे थे. इसके बाद से सुशांत की लोकप्रियता युवा पीढ़ी में काफी बढ़ गयी थी.

इसे भी पढ़ें :जबरन शादी और दुष्कर्म करनेवाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

दंगल में पहलवानी का धमाल

खेलों में भले ही पहलवानी को क्रिकेट और फुटबॉल आदि की तुलना में कम तवज्जो दी जाती हो लेकिन बॉक्स आफिस पर तो आमिर खान, फातिमा सना शेख और जायरा वसीम स्टार दंगल (2016) ने धमाल मचा दिया था. फातिमा और जायरा भी रातों रात स्टार बन गयीं थीं.

एकमात्र असफल फिल्म सचिन ए बिलियन ड्रिम्स (2017)

नामी खिलाड़ियों पर बनी बायोपिक में सचिन ए बिलियन ड्रिम्स (2017) ही एकमात्र ऐसी फिल्म रही है जो अच्छी नहीं बनी और फ्लॉप भी रही थी. इसकी वजह ये थी कि फिल्म को फीचर फिल्म की तरह ना बनाकर डॉक्यूमेंट्री की तरह बनाया गया था. इसमें कोई फिल्मी मसाला भी नहीं था जैसा कि धौनी की कहानी में था.

इसे भी पढ़ें :75 साल की मां को जायदाद के लिए पीट कर घर से निकाला, धुर्वा थाना में दर्ज हुई प्राथमिकी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: