न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब नयी टीम के साथ खेलेंगे नयी पारी : देवीशरण सिन्हा

141

Dhanbad : अब नयी टीम के साथ नयी पारी की शुरूआत करेंगे. बार और बैंच में समन्वय स्थापित करना मेरी प्राथमिकता है. वकीलों में गुणवत्ता विकसित करूंगा. उक्त बातें 20 दिसंबर को हुए बार एसोसिएशन के चुनाव में महासचिव पद पर जीत हासिल करने के बाद वरीय अधिवक्ता देवीशरण सिन्हा ने न्यूजविंग से  बातचीत के दौरान कही. उन्होंने बताया कि अधिवक्ताओं की हर अपेक्षा को पूरा करने की कोशिश करेंगे.

2 साल तक की योजना जीबी मीटिंग में अप्रूवल कराकर करेंगे विकास कार्य

अधिवक्ताओं के विकास के लिए जीबी (जनरल बॉडी) मीटिंग करके सामूहिक रूप से अप्रूवल लेकर 2 साल के लिये कार्यकारिणी समिति के सदस्य मिलकर योजनागत रूप से कार्य करेंगे.

यह पूछने पर कि अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी के साथ कैसे तालमेल स्थापित करके कार्य करेंगे? उन्होंने कहा कि नेतृत्व की कुशलता पर निर्भर करता है कि राधेश्याम गोस्वामी के साथ कैसे काम करेंगे. हालांकि मैं सभी के साथ मिलकर काम करूंगा. वकीलों की गरिमा और अस्मिता का ध्यान रखेंगे. बार काऊंसिल के सभी सदस्य एक परिवार की तरह है.

बता दें कि 20 दिसंबर को धनबाद बार एसोसिएशन का चुनाव हुआ. इसके 16 पदों के लिए 80 उम्मीदवार मैदान में थे. चुनाव का परिणाम शुक्रवार की रात 10: 30 बजे साफ हुआ. इसमें अध्यक्ष पद से पिछली बार अध्यक्ष रहे राधेश्याम गोस्वामी ने दूसरी बार जीत हासिल की है. जबकि महासचिव पद से देवीशरण सिन्हा विजय हुए.

बार एसोसिएशन में अब एक नया समीकरण

बार एसोसिएशन के चुनाव में महासचिव पद से देवीशरण सिन्हा के जीतने से एक नया समीकरण बन गया है. क्योंकि अध्यक्ष राधेश्याम गोस्वामी और कोषाध्यक्ष मुकुल लगातार दूसरी बार जीत हासिल कर चुके हैं. तो पिछली बार महासचिव रहे विदेश दा के चुनाव नहीं लड़ने से देवीशरण सिन्हा इस पद पर काबिज हो गये. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि राधेश्याम गोस्वामी की पुरानी टीम के साथ कैसे तालमेल बैठा पाते हैं.

इससे पहले भी जब कंसारी मंडल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष थे, तो उस समय 2014 से 2016 तक के अलावा लगातार दो बार देवीशरण सिन्हा महासचिव रह चुके हैं. हालांकि पिछली बार भी उन्होंने इस पद के लिए चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गये थे. इस बार फिर से इनके चुन कर आने से बार में एक नया समीकरण बन गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: