न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब माननीयों (MLA) की नहीं चलेगी धौंस, सरकारी अफसरों और कर्मियों को नहीं धमका सकेंगे

परिवाद नियमावली में होगा संशोधन, सरकारी सेवकों को मिलेगी विशेष सुरक्षा

521

Ranchi: अब माननीय (MLA) सरकारी सेवकों को अपनी धौंस नहीं दिखा सकेंगे. इसके लिये परिवाद (शिकायत) नियामावली में संशोधन किया जायेगा. इस नियमावली के तहत परिवाद के मामलों में सरकारी सेवकों को विशेष सुरक्षा की बात देने की बात कही गई है. अगर MLA किसी भी मामले की शिकायत किसी भी सरकारी विभाग में मौखिक रुप से करेंगे तो उस पर कार्रवाई नहीं की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःखदान आवंटन मामले में फंस सकते हैं CS रैंक के साथ दो IFS, जिस फाइल पर खदान की अनुशंसा हुई, वह भी गायब

अब MLA को क्या करना होगा

अब MLA को किसी भी शिकायत के लिये संबंधित विभाग को लिखित विवरण देना होगा. सरकारी सेवक को पहले चिट्ठी देनी होगी. इसके बाद सरकारी सेवक मामले को कंफर्म करेंगे. इसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जायेगी. परिवाद की नई नियमावली में आमजन के लिये भी नियम बनाये जायेंगे. इसके तहत आमलोगों के शिकायत के लिये शपथ पत्र देने का प्रावधान किया जायेगा. बिना शपथ पत्र के किसी भी केस या वाद पर कार्रवाई नहीं की जायेगी.

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ः सहायक खनन पदाधिकारी पर कार्रवाई की अनुशंसा के बाद भी डीसी नहीं करते कोई कार्रवाई

कैसे बदलेगा परिवाद का नियम

1980 के पहले नामी छदमनामी परिवाद (शिकायत) पर किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की जाती थी. इससे राज्य सरकार को काफी परेशानी होती थी. 1980 में एकीकृत बिहार के समय परिवाद नियमावली को लागू किया गया. झारखंड गठन के बाद भी यह नियमावली झारखंड में लागू हुई. वर्ष 2005 में बिहार सरकार ने एक सर्कुलर निकाला था. इसमें सरकारी सेवकों को परिवारवाद के खिलाफ विशेष सुरक्षा देने की बात कही गई थी. अब झारखंड में इसके संशोधन में दो बिंदुओं को जोड़ा जा रहा है. जिसमें शिकायत से संबंधित चिट्ठी को पहले कंफर्म किया जायेगा. आमजन की शिकायत के मामले में शपथ पत्र देंगे. राज्य सरकार ने इस मामले में परिपत्र भी निर्गत किया है. कार्मिक इसकी समीक्षा भी कर रहा है.

इसे भी पढ़ें – गैरमजरूआ जमीन को वैध बनाने का चल रहा खेल, राजधानी के पुंदाग में खाता संख्या 383 की काटी जा रही लगान रसीद

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: