Sci & Tech

अब कंपनी के ऐप पर ही इस्तेमाल किया जा सकेगा WhatsApp

Prem Anand

Facebook के स्वामित्व वाली कंपनी WhatsApp ने एक एफएक्यू (FAQ) पोस्ट के जरिए घोषणा की है कि कंपनी अस्थायी रूप से जीबी व्हाट्सऐप (GB WhatsApp) और व्हाट्सऐप प्लस (WhatsApp Plus) जैसे थर्ड पार्टी वर्जन वाले अकाउंट को बैन कर रही है. अकाउंट चलाने के लिए यूजर के पास आधिकारिक ऐप मौजूद होना चाहिए. अकाउंट को माइकग्रेट करने से पूर्व चैट का बैकअप जरूर ले लें. केवल इतना ही नहीं, ये आपको आधिकारिक ऐप पर स्विच करने के लिए स्टेप्स भी बताएगा.

एफएक्यू (FAQ) पोस्ट में व्हाट्सऐप न कहा कि इन मैसेजिंग ऐप को थर्ड पार्टी द्वारा डेवलप किया गया है, इसी कारण कंपनी इन ऐप्स की सिक्योरिटी की पुष्टि नहीं कर पाती. यह अनौपचारिक ऐप ऑफिशियल ऐप के टर्म ऑफ सर्विस क्लॉज़ का उल्लंघन करते हैं. यूज़र्स को इस बात की सलाह दी जाती है कि वह अकाउंट को स्विच करने से पूर्व अपनी चैट हिस्ट्री का बैकअप जरूर ले लें.

इसे भी पढ़ेंः 23 मार्च: हर कोई रोया जब भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को हुई थी फांसी

अनौपचारिक ऐप इस्तेमाल करते समय आपको यदि इन-ऐप मैसेज प्राप्त होता है कि आपका अकाउंट अस्थायी रूप से बैन कर दिया गया है तो इसका अर्थ यह है कि आप व्हाट्सऐप के अन सपोर्टेड वर्जन का इस्तेमाल कर रहे हैं. अगर आप बिना किसी समस्या के अपना अकाउंट चलाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको WhatsApp का आधिकारिक ऐप डाउनलोड करना होगा.

WhatsApp ने WhatsApp Plus और GB WhatsApp यूज़र के डेटा को आधिकारिक ऐप पर ट्रांसफर करने के लिए विस्तार से स्टेप्स बताए हैं. पोस्ट में लिखा हुआ है कि व्हाट्सऐप अनौपचारिक ऐप को सपोर्ट नहीं करता, ऐसे में चैट हिस्ट्री के सफल ट्रांसफर की गारंटी नहीं है. अगर आपको लगता है कि आपके अकाउंट को गलती से बैन कर दिया गया है तो ऐसी स्थिति में आप कंपनी की ईमेल कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः गिरिडीह लोकसभा सीट पर आजसू की रणनीति: ढुल्लू, शाहाबादी के साथ बेरमो में मिल सकता है विपक्ष का साथ

 

Related Articles

Back to top button