न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब रतन टाटा और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत एक मंच पर होंगे

544

NewDelhi : देश के जानेमाने इंडस्ट्रियलिस्ट रतन टाटा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के साथ मंच साझा करेंगे. खबरों के अनुसार मुंबई में अगले माह आरएसएस से जुड़ी संस्था नाना पालकर स्मृति समिति के कार्यक्रम में रतन टाटा शामिल होंगे. इससे पहले राष्ट्रपति रहे प्रणब मुखर्जी द्वारा आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने पर कांग्रेस नेताओं ने उनकी आलोचना की थी. आरएसएस के कार्यक्रम में प्रणब मुर्ख्जी ने कहा था कि देश की बहुलतावादी संस्कृति की हर हाल में रक्षा होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीरः कुपवाड़ा में रातभर चली मुठभेड़, एक आतंकवादी ढेर

एनपीएसएस नामकसंस्था मरीजों के कल्याणार्थ काम करती है

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नाना पालकर स्मृति समिति (एनपीएसएस) नामक संस्था मरीजों के कल्याणार्थ काम करती है. बता दें कि मरीजों की सेवा करने वाली संस्था का नाम संघ प्रचारक नाना पालकर के नाम पर है. एनपीएसएस 10 मंजिला परिसर में कार्यरत है. यह मुंबई में टाटा कैंसर हॉस्पिटल के नजदीक है.  रतन टाटा को बुलाये जाने के संदर्भ में संस्थान के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि हमलोग टाटा हॉस्पिटल से जुड़े हुए हैं.

आरएसएस से हमें प्रेरणा  मिलती है. इसी कारण विचार आया कि इस कार्यक्रम में रतन टाटा और मोहन भागवत को आमंत्रित किया जाये. कहा कि हमलोग रतन टाटा से पहले से ही जुड़े हुए हैं. बताया कि रतन टाटा ने कुछ साल पहले एनपीएसएस परिसर का भ्रमण किया था.  इसलिए हमलोग एनपीएसएस के गोल्डन जुबली समापन समारोह में रतन टाटा को बुलाने का फैसला किया है. कार्यक्रम की औपचारिक घोषणा जल्द होगी.

जानकारी के अनुसार  24 अगस्त को  कार्यक्रम के आयेाजन की संभावाना है.  बता दें कि उद्योगपति रतन टाटा पूर्व में संघ मुख्यालय आ चुके हैं.  दो साल पूर्व वे अपने जन्मदिन पर संघ मुख्यालय आये थे.  उनके साथ संघ मुख्यालय आने वाली भाजपा नेता साइना एनसी के अनुसार कि उस समय रतनाृ टाटा ने नागपुर मुख्यालय में ढाई घंटे गुजारे थे और आरएसएस के कार्यक्रम को गहराई से समझा था.  बताया कि टाटा ट्रस्ट ने बाद में आधुनिक कैंसर अस्पताल की स्थापना में संघ की मदद की थी.  अस्पताल की स्थापना नागपुर में की गयी है .

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: