Education & CareerRanchi

अब हर आठ किमी पर एक प्लस टू हाइस्कूल खोलने की तैयारी, फिलहाल राज्य में हैं 510 विद्यालय

विज्ञापन

Ranchi: स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग राज्य में प्लस टू स्कूलों की संख्या में बढ़ोत्तरी करने की कवायद शुरू कर दी है. विभाग की ओर से सभी जिलों को अपनी आवश्यकता के मुताबिक, प्लस टू स्कूल खोलने की अनुशंसा करने को कहा है. शिक्षा विभाग की ओर से स्कूल खोलने की अनुशंसा करने के लिए जिला स्तर पर कमिटी भी बनायी है. इस कमिटी की अध्यक्षता उपायुक्त कर रहे हैं. साथ ही कमिटी में जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक और जिला कल्याण पदाधिकारी भी हैं.

इसे भी पढ़ेंः बिजली बोर्ड में लगभग 5 हजार पद खाली, 1145 की अनुशंसा भेजने के बाद भी कार्रवाई नहीं

प्लस टू एजुकेशन के लिए अब भी करना पड़ रहा लंबा सफर

राज्य में फिलहाल 510 प्लस टू स्कूल हैं. लेकिन इन स्कूलों का लाभ बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स नहीं ले पा रहे हैं. इसकी वजह है प्लस टू स्कूलों का बच्चों की पहुंच से दूर होना. विभागीय जानकारी के अनुसार, वर्तमान में प्लस टू शिक्षा के लिए राज्य के बच्चों को औसतन 12 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ रही है. बच्चों की इसी परेशानी को देखते हुए नये प्लस टू स्कूल खोलने की तैयारी स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग कर रहा है. विभाग की ओर से जो कवायद हो रही है, उसके मुताबिक प्लस टू स्कूल खोलने के लिए दो क्राइटेरिया तय किया गया है. इसके अनुसार प्रत्येक 10 हजार की आबादी पर एक प्लस टू स्कूल खुलेंगे. साथ ही विभाग यह भी ध्यान रख रहा है कि प्रत्येक सात से आठ किमी के सर्कल पर एक प्लस टू स्कूल खुले.

advt

जिलों से मांगा है विस्तृत ब्योरा

शिक्षा विभाग की ओर से जिलों को भेजे गये पत्र में कहा गया है कि जहां सात से आठ किमी की दूरी में स्थायी मान्यता वाले इंटर कॉलेज हैं, वहां के हाईस्कूल को प्लस टू स्कूल में अपग्रेड करने की अनुशंसा नहीं की जाये. सरकार ने नये प्लस टू स्कूल के साथ हाईस्कूल को प्लस टू स्कूल में अपग्रेड करने का भी निर्णय लिया है.

इसे भी पढ़ेंः निलंबित सांसदों का धरना खत्म, राज्यसभा की कार्यवाही का बहिष्कार करेगा विपक्ष

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, जिन हाइस्कूल को प्लस टू स्कूल में अपग्रेड करना है वहां भवन निर्माण करने के लिए जमीन का होना जरूरी है. विभाग ने जिलों से कहा है कि वे स्कूलों की जमीन, कमरों की संख्या और उस स्कूल में एडमिशन लिये हुए बच्चों की संख्या समेत तमाम जानकारी विस्तृत रूप से भेजें. विभाग ने सभी जिला से 30 सितंबर तक विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है.

स्कूलों को मिलेंगे 15 करोड़ रुपये

कोरोना की स्थिति को देखते हुए शिक्षा विभाग स्कूल खोलने को लेकर कई उपाय कर रहा है. सुरक्षित तरीके से स्कूलों का संचालन हो सके, इसके लिए 32809 स्कूलों को 15 करोड़ रुपये शिक्षा परियोजना देगी. यह राशि समग्र शिक्षा अभियान के तहत दी जायेगी. इसमें 60 फीसदी राशि केंद्र सरकार और 40 फीसदी राशि राज्य सरकार देगी. इस राशि से थर्मल गन, हैंड सेनिटाइजर, थ्री लेयर वाशेबल मास्क, साबुन, हैंडवॉश आदि खरीदा जायेगा.

adv

इसे भी पढ़ेंः सांसदों के लिए चाय लेकर पहुंचे हरिवंश, तारीफ में बोले पीएम- बिहार लोकतंत्र का पाठ सिखाता रहा है

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button