JamshedpurJharkhand

JAMSHEDPUR : अब एमजीएम अस्पताल में मरीज के साथ रह पाएंगे एक ही अटेंडर, सुबह एक घंटे और शाम को दो घंटे मिल सकेंगे मरीज से

JAMSHEDPUR : हमेशा विवादों में रहने वाला कोल्हान का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल एमजीएम में धीरे-धीरे बदलाव शुरू हो गया है. झारखंड में गठबंधन सरकार के बनने और स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के बनने के बाद निरंतर अस्पताल का कायाकल्प आरम्भ होने लगी चाहे वह भवन का रख रखाव हो या फिर साफ सफाई के साथ सौन्दर्यकरण हो. हर एक छोटी छोटी समस्याओं पर नजर रखी जा रही. एक और समस्या वर्षो से चली आ रही थी कि विभिन्न वार्डो में इलाजरत मरीजो के पास परिजनों का जमावड़ा रहता था, इस पर भी अंकुश लगाने का पहल शुरू कर दी है. अस्पताल अधीक्षक डॉक्टर रविंद्र कुमार ने बुधवार से अटेंडरों के लिए नए नियम लागू कर दिए है. इसके तहत अब मरीज के साथ एक ही परिचायक मौजूद रहंगे. अन्य के लिए सुबह 7 से 8 बजे तक और शाम में 5 से 7 बजे तक मिलने समय तय किया गया है. इसके लिए वार्ड के मुख्य द्वार पर सुरक्षाकर्मी को तैनात किया गया. वैसे आज आरम्भ हुई इस नए व्यवस्था इमरजेंसी वार्ड में लागू नही हो पाई है. अधीक्षक का कहना है कि धीरे-धीरे व्यवस्था में सुधार कर लिया जाएगा. वहीं इस व्यवस्था से मरीज के परिजनों को वार्ड से बाहर अस्पताल परिसर में ही इंतजार करना पड़ा लेकिन मरीज के परिजन नए व्यवस्था का स्वागत भी किया है. आपको बता दे कि जल्द ही इमरजेंसी वार्ड में ज़मीन में लेटाकर इलाज करने की व्यवस्था समाप्त होने वाली है, जिसके लिए पार्किंग स्थल को वार्ड के रूप में परिवर्तित किया जा रहा है. वर्तमान में एमरजेंसी में 11 बेड की जगह 55 बेड है अब 65 बेड का एमरजेंसी वार्ड हो जाएगी जिससे लोगो को काफी सहूलियत होगी.

ये भी पढ़ें : JAMSHEDPUR RURAL : जिला पार्षद लक्ष्मी मुर्मू ने गोहला पंचायत के गावों का किया दौरा, सुनी ग्रामीणों की समस्या

Related Articles

Back to top button