न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब ग्रेजुएशन अपीयरिंग छात्र भी दे सकेंगे B.Ed एंट्रेंस टेस्ट, सीट खाली रहने के बाद लिया गया फैसला

711

Rahul Guru

Ranchi: झारखंड राज्य के बीएड कॉलेजों में नामांकन के लिए अब ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के छात्र भी एडिमशन टेस्ट दे सकेंगे. शैक्षणिक सत्र 2019 में राज्य के बीएड कॉलेजों में सीट के खाली रह जाने की वजह से यह निर्णय लिया गया है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

गौरतलब है कि राज्य के बीएड कॉलेजों में नामांकन के लिए उच्च व तकनीकी शिक्षा विभाग के निर्देश पर झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने पहली बार कंबाइंड बीएड एडमिशन टेस्ट लिया था. रिजल्ट जारी करने के बाद रांची विश्वविद्यालय के ने काउंसलिंग पूरी कर एंट्रेंस टेस्ट में पास स्टूडेंट्स को बीएड कॉलेज अलॉट किया गया था.

इसे भी पढ़ें- योगी कैबिनेट का बड़ा फैसला: लखनऊ और नोएडा में पुलिस आयुक्त प्रणाली को दी मंजूरी

पहली बार ऑनलाइन हुई थी एडिमशन काउंसलिंग

बिहार, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश की तर्ज पर झारखंड में पहली बार कंबाइंड एडमिशन टेस्ट के बाद ऑनलाइन काउंसलिंग के माध्यम से एडिमशन लिए गये थे. लगभग एक महीने की काउंसलिंग प्रक्रिया के बाद भी राज्य के सरकारी बीएड कॉलेजों को छोड़कर 70 फीसदी प्राइवेट बीएड कॉलेजों की सीटें खाली रह गयी थी.

इसके बाद उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर दूसरी बार ऑफलाइन काउंसलिंग की गयी. इस काउंसलिंग में भी सीटें नहीं भरी. रांची विश्वविद्यालय की ओर से शिक्षा विभाग को भेजी गयी रिपोर्ट के बाद साल 2020 में होने वाली बीएड एडिमशन टेस्ट में ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष के छात्रों को भी बीएड एडमिशन टेस्ट में शामिल करने का निर्णय लिया गया है.

इसे भी पढ़ें- पलामू: पिपरा में TPC उग्रवादियों ने मुखिया पति को जमकर पीटा, पर्चा छोड़ दी चेतावनी 

Sport House
Related Posts

एडमिशन के समय जमा करना होगा सर्टिफिकेट

साल 2019 में हुए बीएड एडमिशन टेस्ट में उन्हीं स्टूडेंट्स को शामिल होने की अनुमति दी गयी थी, जिन्होंने ग्रेजुएशन पूरा कर लिया था. इस बार ग्रेजुएशन अपीयरिंग स्टूडेंट भी नामांकन में शामिल होंगे. विभाग के अधिकारी ने बताया कि जिस तरह से इंजीनियरिंग, मेडिकल सहित अन्य संस्थानों में अपीयरिंग कंडीडेट को एंट्रेंस परीक्षा पास होने पर प्रोविजनल एडमिशन दिया जाता है, उसी तरह यहां के बीएड कॉलेजों में भी पोविजनल एडमिशन दिया जायेगा.

जुलाई में बीएड के फाइनल एडमिशन के समय उम्मीदवारों को अपने ग्रेजुएशन का सर्टिफिकेट जमा करना होगा. जिस उम्मीदवार का एडमिशन के समय सर्टिफिकेट जमा नहीं हो पायेगा, उनका नामांकन रद्द कर वेटिंग लिस्ट के उम्मीदवार को एडमिशन के लिए बुलाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- CAA-NRC पर विपक्ष की बैठक, शिवसेना-AAP समेत चार पार्टियों ने किया किनारा

13600 में लगभग 3000 सीटें रह गयी खाली

साल 2019 में नामांकन के लिए एडमिशन काउंसलिंग की फाइनल रिपोर्ट के अनुसार राज्य में 136 बीएड कॉलेज हैं. जहां की 13600 सीटों में नामांकन के लिए काउंसलिंग किया गया. जिसमें से 2805 सीटें खाली रह गयी.

रांची विवि की ओर से शिक्षा विभाग को भेजे गये रिपोर्ट के मुताबिक 136 बीएड कॉलेजों में से मात्र 31 बीएड कॉलेजों में की शत प्रतिशत नामांकन हो पाया. जिन कॉलेजों में नामांकन हो पाया उसमें से अधिकांश कॉलेज सरकारी हैं. 16 बीएड कॉलेज ऐसे रहे जहां 50 फीसदी से भी कम नामांकन हुआ.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like