Main SliderNationalUttar-Pradesh

अब कांग्रेस ने लखनऊ में CM योगी, डिप्टी सीएम केशव मौर्य का पोस्टर लगाकर पूछा, इन दंगाइयों से वसूली कब?

विज्ञापन

NewsWing Desk: सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने व इस दौरान हुए हिंसक झड़पों के आरोपियों से नुकसान की भरपाई करने को लेकर यूपी सरकार ने कथित दंगाइयों की तसवीरों की होर्डिंग लगायी है. इलाहाबाद हाइकोर्ट ने इसे गलत बताया था.

जिसके खिलाफ सरकार सुप्रीम कोर्ट गयी. सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार के इस कदम को सही नहीं ठहराया. और कहा कि ऐसा कोई कानून नहीं है. इस बीच शुक्रवार की रात सरकार ने एक अध्यादेश जारी कर इसे लेकर कानून बना दिया.

इसे भी पढ़ें- #YesBankCrisis: चाहिये 20 हजार करोड़ जुटे सिर्फ 11,600 करोड़, संकट अभी टला नहीं

अब इस पोस्टर वार में दूसरे राजनीतिक दल भी कूद पड़े हैं. शनिवार की सुबह लखनऊ के चौक-चौराहों पर अलग तरह के पोस्ट दिखे. जिसमें यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्य मंत्री केशव प्रसाद मौर्य, समेत भाजपा के 8 नेताओं की तस्वीर है. पोस्टर में निवेदक के स्थान पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सुधांशू बाजपेयी व लालू कन्नौजिया नाम के व्यक्ति का नाम अंकित है.

पोस्टर में सवाल उठाया गया है कि “जनता मांगे जवाब-इन दंगाइयों से वसूली कब ? ”  पोस्टर में आगे लिखा गया है कि अजय सिंह बिष्ट उर्फ योगी आदित्यनाथ पर पांच गंभीर मुकदमे दर्ज है. जबकि केशव प्रसाद मौर्य पर 11 मामले.

इसे भी पढ़ें- #YesBank से नकद निकासी सीमा पर लगी रोक 18 मार्च को होगी खत्म

इन दोनों पर धारा 147 (उपद्रव करना), धारा 148 (घातक हथियार से सज्जित होकर उपद्रव करना), धारा 295 (किसी धर्म का अपमान और धर्मस्थल की क्षति करना), धारा 153 (दंगा भड़काना) और धारा 302 (हत्या करना) का आरोप है. इसके अलावा मुजफ्फरनगर दंगे के आरोपी मंत्री सुरेश राणा, भाजपा नेता संगीत सोम, संदीव बाल्यान, उमेश मल्लिक व साध्वी प्राची और गोरखपुर दंगे के आरोपी राधा मोहन दास अग्रवाल की तस्वीर भी लगायी गयी है.

पोस्टर में यह सवाल उठाया गया है कि जब सरकार दंगाइयों के आरोपियों से वसूली करने और उनकी तसवीर की होर्डिंग लगा रही है तो फिर खुद के ऊपर दर्ज मामलों में क्यों नहीं ऐसा कर रही है. जानता जवाब मांग रही है कि  इन दंगाईयों से वसूली कब होगी.

वीकेंड टाईम्स  के संपादक संजय शर्मा ने लखनऊ में लगे पोस्टरों की तसवीर ट्विट किया है. जिसके बाद उनका ट्विट वायरल हो रहा है.

इसे भी पढ़ें- ग्राहकों को नहीं मिलेगा कच्चे तेल की गिरी कीमतों का लाभ, खजाना भरने के लिए सरकार ने बढ़ा दिया है टैक्स

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: