JharkhandRanchiSports

6 सालों की तपस्या का अब 33 खिलाड़ियों को मिलेगा फल, हड़िया दारू बेचने और मजदूरी करने से मिलेगी निजात

Ranchi. सीएम हेमंत सोरेन ने 33 खिलाड़ियों को अगले एक महीने में सीधी नियुक्ति दिये जाने का भरोसा दिलाया है. मुमकिन है कि 15 नवंबर को राज्य स्थापना दिवस पर खिलाडियों के लिए गुड न्यूज आ जाये. फिलहाल तो स्पोर्टस इवेंट्स में नेशनल इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म पर मेडल जीतने वाले प्लेयर्स के लिए यह बड़ी राहत भरी खबर है. यह संयोग ही है कि सीधी नियुक्ति का मामला हेमंत सोरेन के पिछले कार्यकाल में ही शुरू हुआ था. 2014 में झारखंड खिलाड़ी सीधी नियुक्ति नियमावली (विभागीय अधिसूचना सं 56, 11-07-2014) जारी किया गया था. इसके अगले साल (अधिसूचना सं 178, 18-06-2015) भी इसे जारी किया गया था. फिर नवंबर 2019 में इस दिशा में प्रक्रिया आगे बढ़ी. यानि 2014 से खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति की शुरू हुई रेस 6 सालों बाद जाकर पूरी होने की उम्मीद है.

Jharkhand Rai

तीन ग्रेडों में नौकरी

6 सालों की तपस्या का अब 33 खिलाड़ियों को मिलेगा फल, हड़िया दारू बेचने और मजदूरी करने से मिलेगी निजातपर्यटन, कला संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग ने 2014 में नियमावली के आधार पर खिलाड़ियों के लिए सीधी नियुक्ति की सूचना जारी की. इसके मुताबिक राज्य सरकार के चयनित विभागों में समूह ख, ग एवं घ के पदों पर सीधी नियुक्ति की जायेगी. 2014 औऱ 2015 में खिलाड़ियों के आवेदन पर कोई सकारात्मक पहल नहीं हो सकी. नवंबर 2019 में खेल विभाग ने फिर से आवेदन मंगाये थे. 246 कैंडिडेट ने आवेदन किया. विभाग ने स्क्रूटनी के आधार पर फरवरी 2020 में 34 प्लेयर्स को फाइनल किया था. हालांकि इनमें से एक बाद में डीएसओ बन गयी.

इसे भी पढ़ेः इटखोरी : नाबालिग लड़की के अपहरण के मामले में इटखोरी में दो गिरफ्तार

श्रमिक बनने से मिलेगी मुक्ति

जो प्लेयर्स सीधी नियुक्ति प्रक्रिया में लिस्टेड हैं, उनमें से कईयों को रोजी रोटी के लिए मजदूरी करने, हंड़िया दारू बेचने जैसे काम करने की नौबत आ चुकी है. हंड़िया बेचने वाली विमला मुंडा के मामले में सीएम तक को संज्ञान लेना पड़ा. इसी तरह अन्य खिलाडियों को भी आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है. अब उम्मीद है कि महीनेभर में बेहतर भविष्य की राह बनेगी.

Samford

सीधी नियुक्ति के लिए लिस्टेड प्लेयर्स

देवानंद बास्की, कविता कुमारी, फरजाना खान, सीमा कुमारी सिन्हा, मधुमिता कुमारी, के एच भाग्यवती चानू, अभिरंजन कुमार, रितेश आनंद, नवीन कुमार राम, आरज़ू रानी, तुलसी हेम्ब्रम, दिनेश कुमार, राहुल मिंज, ज्योति कुमारी, दीपक कुमार बहादुर तितुंग, राम कुमार भट्ट, लवली चौबे, आलोक लकड़ा, सरिता तिर्की, मो अबू तालिब अंसारी, राजीव कुमार साहू, नूतन मंजू मिंज, मो वसीम, परवीन अख्तर, लखन हांसदा, कृष्णा खलखो, रूपा रानी तिर्की (अब डीएसओ), प्रीति कुमारी, विमला मुंडा, फणीभूषण प्रसाद, रीना कुमारी व विमला मुंडा.

इसे भी पढ़ेः गिरिडीहः पैतृक संपत्ति पर हक पाने के लिए यूनिफॉर्म पहन अनशन पर बैठे वायुसेना के अफसर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: