न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विशेष राज्य का दर्जा देने की अनुशंसा करना वित्त आयोग का अधिकार क्षेत्र नहीं: एनके सिंह

लोगों को बुनियादी सुविधाएं देना सरकार का लक्ष्य- नीतीश

171

Patna: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अक्सर केंद्र सरकार से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करते रहे हैं. इधर 15 वें वित्त आयोग ने बुधवार को स्पष्ट कर दिया कि राज्यों को विशेष श्रेणी का दर्जा देने की अनुशंसा करना, उसके क्षेत्राधिकार में नहीं है. लेकिन आश्वासन दिया कि जहां तक बिहार की जरूरतों का संबंध है, उसकी सिफारिशें सहानुभूतिपूर्ण और सकारात्मक होगी.

इसे भी पढ़ेंःएकबार फिर चूहे पी गये शराब ! कैमूर में बीयर की केन गायब: अधिकारियों ने कहा- चूहे जिम्मेदार

नीतीश कुमार की तारीफ

hosp1

15 वें वित्त आयोग की टीम के चार दिवसीय दौरे के अंतिम दिन यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए आयोग के अध्यक्ष एन के सिंह ने स्वीकार किया कि इस प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने के मामले को दिन की शुरुआत में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुरजोर तरीके और शानदार ढंग से रखा.

यह पूछे जाने पर जदयू सांसद के तौर पर उन्होंने प्रदेश को विशेष दर्जा दिये जाने की वकालत की थी, सिंह ने कहा कि इस मामले पर अलग से अध्ययन किए जाने के लिए एक स्वतंत्र इकाई की जरूरत है.

इसे भी पढ़ेंःशॉटगन का तंजः बीजेपी बनकर रह गई “वन मैन शो, टू मेन आर्मी”

लोगों को बुनियादी सुविधा देना सरकार का लक्ष्य- सीएम

वही इससे पहले सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमारा लक्ष्य लोगों को बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराना है और यही विकास के सही मायने हैं. मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद कक्ष में 15वें वित्त आयोग की बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि वित्त आयोग संविधान के दायरे में रहकर काम करता है. उन्होंने कहा कि बिहार लैंड लॉक्ड स्टेट है, ऐसे में यहां दूसरे कोस्टल राज्यों की तरह उद्योग एवं व्यापार के लिए निवेश नहीं है. यह राज्य को विशेष दर्जा मिलने से ही संभव है. बिहार मे अन्य राज्यों की तुलना में प्रति व्यक्ति आय कम है, लेकिन यहां व्यक्तिगत काम के द्वारा लोगों की आमदनी बढ़ी है जो आंकड़ों में प्रतीत नहीं होता है.

इसे भी पढ़ें – मीटर खरीद मामले में जेबीवीएनएल जिद पर अड़ा, मनमाने ढंग से टेंडर के बाद सीएमडी की चिट्ठी की भी परवाह…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: