न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

नहीं मिला संतोषप्रद जवाब तो उपायुक्त ने चार बीईईओ को 100-100 पौधे लगाने को कहा

262

Palamu: पलामू जिले में कार्यरत चार प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों पर नये तरह की कार्रवाई की गयी है. उन्हें अपने-अपने क्षेत्र के विद्यालयों में 100-100 पौधे लगाने का निर्देश दिया गया है. आदेश यहीं तक सीमित नहीं है. सभी पौधों की जीओ टैगिंग करते हुए एक माह के बाद जीवित होने का प्रमाण पत्र, फोटोग्राफ के साथ प्रतिवेदन समर्पित करने को भी कहा गया है.

eidbanner

इसे भी पढ़ें – सीएनटी ही नहीं आर्मी की जमीन पर भी माफिया ने कर लिया कब्जा और देखता रहा प्रशासन-1

लोकसभा चुनाव में शिक्षकों की त्रुटिपूर्ण सूची उपलब्ध कराने का है मामला

लोकसभा आम चुनाव 2019 में प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारियों (बीईईओ) द्वारा शिक्षकों की त्रुटिपूर्ण सूची उपलब्ध कराने के मामले पर 4 बीईईओ से पलामू के उपायुक्त डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने स्पष्टीकरण मांगा था. स्पष्टीकरण का संतोषप्रद जवाब नहीं मिलने पर उपायुक्त ने विश्रामपुर के प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी सुनेश्वर चौधरी, छतरपुर के जय कुमार तिवारी, मनातू के सुरेश चौधरी और प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी सदर मेदिनीनगर के पांडेय प्रेम प्रकाश शर्मा को पर्यावरण संरक्षण के क्रम में अपने-अपने क्षेत्र के विद्यालयों में 100-100 फलदार पौधे लगाने का आदेश दिया है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में शिक्षा का हाल : 58.7% युवा आबादी को नहीं आता है पढ़ना-लिखना

Related Posts

विधानसभा चुनाव : कांग्रेस और जेएमएम ने बनायी विशेष रणनीति, स्थानीय मुद्दों पर रहेगा जोर 

लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद आगामी विधानसभा चुनाव के लिए महागठबंधन के घटक दलों ने सांगठनिक मजबूती पर काम शुरू कर दिया है.

साथ ही उक्त पौधों का जीओ टैगिंग करते हुए एक माह के बाद जीवित होने का प्रमाण पत्र, फोटोग्राफ के साथ प्रतिवेदन कार्मिक कोषांग पलामू में समर्पित करना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है. इसके बाद एक दिन का स्थगित वेतन की विमुक्ति पर विचार करने की बात कही है.

उपायुक्त ने कहा है कि लोकसभा आम चुनाव 2019 के अंतर्गत मतदान कार्य हेतु पलामू जिला शिक्षा पदाधिकारी जिला शिक्षा अधीक्षक द्वारा जिले के कार्यरत शिक्षकों की त्रुटिपूर्ण सूची अपने अधीनस्थ बीईईओ के माध्यम से कार्मिक कोषांग पलामू को समर्पित किया गया था. समर्पित कर्मियों की सूची में त्रुटियां पाये जाने के संदर्भ में संबंधित बीईईओ से स्पष्टीकरण मांगा गया था, जिसका उत्तर उन्होंने संतोषप्रद नहीं दिया था.

इसे भी पढ़ें – तीन दिनों से रामचरण मुंडा के घर नहीं जला था चूल्हा , घर में अनाज का एक भी दाना नहीं था, हो गयी मौत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: