न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बगैर AICTE की संबद्धता और राज्य सरकार के NOC से चल रहा NIPS स्कूल

अशोकनगर में किराये के मकान पर चल रहा है होटल मैनेजमेंट संस्थान, 40 से अधिक स्टूडेंट्स का भविष्य दांव पर

458

Ranchi: राज्य में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की संबद्धता और झारखंड सरकार की अनापत्ति प्रमाण पत्र के ही कई संस्थान चल रहे हैं. इनमें से ही एक संस्थान है, एनआईपीएस स्कूल ऑफ होटल मैनेजमेंट. राजधानी के अशोकनगर में संस्थान एक किराये के मकान पर चल रहा है. 40 से अधिक स्टूडेंट्स का दाखिला संस्थान में जुलाई 2018 से अब तक किया जा चुका है. यह एडमिशन होटल मैनेजमेंट के डिप्लोमा और डिग्री स्तरीय पाठ्यक्रमों में लिया गया है. इन सभी स्टूडेंट्स का भविष्य दांव पर लगा हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः सीएम का आदेश नहीं मानते सीएस रैंक के अधिकारी

 

एनआईपीएस स्कूल को एआईसीटीई ने सिर्फ पश्चिम बंगाल में कोर्स संचालित करने की संबद्धता प्रदान की है. ऐसे में दूसरे राज्यों में होटल मैनेजमेंट संस्थान चलाने की अनुमति नियमत: नहीं दी जा सकती है. एआईसीटीई की संबद्धता के बाद ही स्टेट बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (एसबीटीई) से डिप्लोमा और डिग्री स्तरीय कोर्स चलाने की अनापत्ति प्रमाण पत्र दी जाती है. झारखंड सरकार के उच्च, तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग के उप निदेशक संजीव चतुर्वेदी ने बताया कि बगैर संबद्धता और राज्य सरकार की अनुमति के कोई भी संस्थान एक दिन भी नहीं चल सकते हैं. उन्होंने कहा कि सरकार के नियमों के अनुसार संस्थान यदि संबद्धता की प्रत्याशा में एडमिशन ले रहे हैं, तो वह सरासर गलत है. ऐसे संस्थानों को चलाना भी अवैध है. किसी विदेशी संस्था के एप्रूवल के नाम पर भी संस्थान में दाखिला नहीं लिया जा सकता है.

एनआईपीएस स्कूल कोलकाता का बड़ा संस्थान

silk_park

एनआईपीएस स्कूल ऑफ होटल मैनेजमेंट, कोलकाता गवर्नमेंट से मान्यता प्राप्त संस्थान है. संस्थान का दावा है कि उनका सेंटर रांची, भुवनेशनवर में भी चल रहा है. संस्थान प्रबंधन का दावा है कि निप्स को राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन (एनएसडीसी) का एप्रूव्ड चैनल पार्टनर बनाया गया है. लंदन के कंफेडरेशन ऑफ टूरिज्म एंड हॉस्पिटलिटी के संबद्ध पाठ्यक्रमों को भी संस्थान में संचालित किया जा रहा है. संस्थान में डिग्री इन होटल मैनेजमेंट, डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट और होटल मैनेजमेंट के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःसिंदरी कारखाने के 2000 करोड़ मूल्य का स्क्रैप औने-पौने में लेकर सलटा रहे ऊंची पहुंचवाले कारोबारी

हमने राज्य सरकार को एनओसी देने का किया है आग्रह

संस्थान के स्थानीय प्रभारी पंकज चटर्जी का कहना है कि दो वर्षों में सारी चीज ठीक हो जायेगी. संस्थान ने सत्र 2018 से पाठ्यक्रमों की शुरुआत कर दी है. संस्थान के लिए राजधानी के रातू में जमीन भी ली गयी है. उच्चतर और तकनीकी विभाग से इस दिशा में पत्राचार भी किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि होटल मैनेजमेंट के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए 1.80 लाख रुपये प्रत्येक स्टूडेंट्स से लिये गये हैं. अब तक 40 स्टूडेंट्स का दाखिला रांची सेंटर में हो चुका है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: