Lead NewsNational

पद्म पुरस्कार-2022 के लिए नामांकन आमंत्रित, 15 सितंबर, 2021 तक स्वीकार होंगे नामांकन

New Delhi: गणतंत्र दिवस, 2022 के अवसर पर घोषित किए जाने वाले पद्म पुरस्कारों के लिए ऑनलाइन नामांकन की अंतिम तारीख 15 सितंबर, 2021 है. गृह मंत्रालय ने आज इन पुरस्कारों के नामाकंन और सिफारिशों के लिए अंतिम तारीख की घोषणा करते हुए साफ कर दिया है कि सभी नामांकन और सिफारिशें केवल पद्म पुरस्कार पोर्टल https://padmaawards.gov.in पर ऑनलाइन माध्यम से ही प्राप्त की जाएंगी.

इसे भी पढ़ें :एक बार फोन नंबर डायल करने पर हमेशा के लिए सुंदर पिचाई की मेमोरी में हो जाता है सेव

advt

पद्म पुरस्कारों में पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में शामिल हैं. 1954 में स्थापित किए गए इन पुरस्कारों की घोषणा प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस के अवसर पर की जाती है. यह पुरस्कार ‘काम में विशिष्टता’ की पहचान करने का प्रयास करता है, और कला, साहित्य एवं शिक्षा, खेल, चिकित्सा, सामाजिक कार्य, विज्ञान, इंजीनियरिंग, सार्वजनिक मामलों, सिविल सेवा, व्यापार और उद्योग आदि सभी क्षेत्रों/विषयों में विशिष्ट और असाधारण उपलब्धियों/सेवाओं के लिए प्रदान किया जाता है.

इन पुरस्कारों के लिए नस्ल, व्यवसाय, स्थिति या लिंग आदि बिना किसी भेदभाव के सभी व्यक्ति पात्र हैं. डॉक्टरों और वैज्ञानिकों को छोड़कर सार्वजनिक उपक्रमों के साथ काम करने वालों सहित सरकारी कर्मचारी, पद्म पुरस्कार के लिए पात्र नहीं हैं.

सरकार इन पद्म पुरस्कारों को “लोगों का पद्म” के रूप में तब्दील करने के लिए प्रतिबद्ध है. इसलिए सभी नागरिकों से अनुरोध किया गया है कि वे स्व-नामांकन सहित नामांकनों/सिफारिशों को भेजें. नामांकन/सिफारिशों में उपर्युक्त वेबसाइट पर उपलब्ध प्रारूप में निर्दिष्ट सभी जरूरी विवरण शामिल होने चाहिए, जिसमें स्पष्ट रूप से प्रतिष्ठित व्यक्ति की असाधारण उपलब्धियां/सेवा/संबंधित क्षेत्र/अनुशासन तथा उसकी/उसके लिए अनुशंसित उद्धरण (अधिकतम 800 शब्द) शामिल हो.

इसे भी पढ़ें :कोविड हॉस्पिटल्स में फायर सेफ्टी का करना ही होगा इंतजाम

गृह मंत्रालय ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों/विभागों, राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों, भारत रत्न और पद्म विभूषण विजेताओं, उत्कृष्ट संस्थानों से उन प्रतिभाशाली व्यक्तियों की पहचान करने की दिशा में पूर्ण प्रयास करने का अनुरोध किया है, जिनकी उत्कृष्टता और उपलब्धियां वास्तव में महिलाओं, समाज के कमजोर वर्गों, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति, दिव्यांगजनों के बीच पहचान की हकदार हों और वे समाज के लिए निस्वार्थ सेवा में लगे हुए हों.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: