न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नोएडाः पार्क में नमाज पढ़ने पर पुलिस की पाबंदी, कंपनियों को भेजा गया नोटिस

1,015

Noida: यूपी के सेक्टर 58 में पार्क में नमाज पढ़ने पर पुलिस ने रोक लगा दी. इसके बावत कंपनियों को भी नोटिस भेजा गया है. जिसमें ये आदेश दिया गया है कि कंपनी अपने कर्मचारियों को खुले इलाकों जैसे पार्कों आदि में नमाज पढ़ने से रोकें. कंपनी के कर्मचारी अगर इस आदेश का उल्लंघन करते पाये गये तो इसके लिए कंपनी को ही जिम्मेवार ठहराया जायेगा. इस संबंध में नोएडा के पुलिस थानों में पिछले हफ्ते नोटिस जारी किया गया.

स्थानीय लोगों द्वारा कि गई एक शिकायत पर कार्रवाई करते हुए नोएडा सेक्टर 58 की पुलिस चौकी अधिकारी ने आदेश जारी किया है कि यहां के पार्क में किसी भी तरह की धार्मिक गतिविधि की अनुमति नहीं है. इसमें शुक्रवार को अदा की जाने वाली नमाज़ भी शामिल है.

बड़ी संख्या में जमा होने लगे थे लोग

बताया जा रहा है कि पहले पार्क में 10-15 लोग नमाज़ पढ़ने आते हैं, लेकिन जब करीब 200 लोग नमाज पढ़ने आए तो पार्क में घूमने वाले लोगों ने पुलिस में इसकी शिकायत कर दी. नमाज़ पढ़ने वाले लोगों ने सिटी मजिस्ट्रेट से भी इजाजत मांगी, लेकिन इजाजत नहीं मिली थी. पुलिस ने इसे लेकर कंपनियों को नोटिस देते हुए ऑफिस में ही नमाज पढ़ने की जगह मुहैया कराने को कहा है.

वही इस आदेश पर विवाद खड़ा होने के बाद नोएडा पुलिस ने कहा कि कार्रवाई एक शिकायत पर लिया गया फैसला है, इससे किसी को कोई परेशानी नहीं है. इलाके में किसी तरह की कोई अशांति का माहौल नहीं है. लेकिन, पार्क में किसी भी तरह की धार्मिक गतिविधि पर रोक है. इसमें नमाज या किसी तरह का जागरण भी शामिल है.

शुरु हुई राजनीति

हर मसले की तरह इसे भी राजनीतिक मुद्दा बनाये जाने की कोशिश हो रही है. आदेश पर शुरु सियासी बयानबाजी के बीच बीजेपी प्रवक्ता डॉ. चंद्रमोहन ने कहा कि इस मुद्दे को राजनीति से नहीं जोड़कर देखना चाहिए. ये पूरी तरह से लॉ एंड ऑर्डर का मसला है. वहीं सपा प्रवक्ता सुनील यादव ने कहा कि हम कंपनियों से अपील करते हैं कि वह मुस्लिम कर्मचारियों के लिए नमाज पढ़ने के लिए जगह मुहैया कराए. अगर ऐसा नहीं हो सकता तो कुछ समय का ब्रेक दिया जाए ताकि मस्जिद जाकर नमाज पढ़ सकें.

इसे भी पढ़ेंः NW Breaking: IFS अफसरों की शाही पार्टी! पांच घंटे का कार्यक्रम और खाने का खर्च 34.31 लाख

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: