Education & Career

नैक एक्रीडिएशन में राज्य के किसी विवि को ए ग्रेड नहीं, सिर्फ दो कॉलेजों को ही मिला है ए ग्रेड

विज्ञापन

Ranchi : नैक यानी नेशनल असेस्मेंट एंड एक्रीडिएशन काउंसिल की ओर देश भर के शैक्षणिक संस्थानों को रैंकिंग दी जाती है. इस रैंकिंग में प्राइवेट और सरकारी दोनों तरह के कॉलेज और यूनिवर्सिटी शामिल हैं. इसी रैंकिंग के आधार पर संस्थानों को केंद्र सरकार की ओर से शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन के लिए बजट दिया जाता है.

नैक द्वारा हर वर्ष कॉलेज और यूनिवर्सिटी की ओर से आये एप्लीकेशन के आधार पर रैंकिंग की जाती है. नैक की ओर से मार्च 2020 में मिली रैंकिंग के मुताबिक राज्य की यूनिवर्सिटी काफी पीछे हैं. यूनिवर्सिटी की बात करें तो झारखंड में एक भी सरकारी  यूनिवर्सिटी नहीं है, जो नैक के मुताबिक ए श्रेणी की हो.

राज्य में सात सरकारी यूनिवर्सिटी हैं. पर एक का भी स्तर ऐसा नहीं है कि उन्हें नैक के मूल्यांकन में ए श्रेणी मिले. जबकि सरकारी कॉलेजों की बात करें तो जमशेदपुर का वीमेंस कॉलेज और घाटशिला कॉलेज घाटशिला ही दो ऐसे सराकरी कॉलेज हैं, जिन्हें ए ग्रेड मिला हुआ है.

इसे भी पढ़ें – #LockDown खत्म होते ही बदल जाएगा BJP प्रदेश कमेटी का चेहरा, बड़े पद के लिए लॉबिंग शुरू

रांची विवि को बी प्लस प्लस श्रेणी

नैक की रिपोर्ट के मुताबिक झारखंड के सरकारी विवि में रांची विवि को बी प्लस प्लस, कोल्हाण विवि को सी, विनोबा भावे विवि को सी और सिद्धो-कान्हू विवि को सी ग्रेड मिला हुआ है. मार्च 2020 की रिपोर्ट के अनुसार झारखंड राय यूनिवर्सिटी को सी, सेंट्रल यूनिवर्सिटी झारखंड को बी ग्रेड मिला हुआ है.

वहीं कॉलेजों की बात करें तो ए ग्रेड में घाटशिला कॉलेज और जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज है. राज्य में 54 कॉलेज ऐसे हैं जो बी ग्रेड में हैं. वहीं सी ग्रेड की बात करें तो ऐसे कॉलेजों की संख्या 24 है. बी प्लस प्लस श्रेणी पानेवाले कॉलेजों की संख्या केवल चार है. जिन कॉलेजों को यह श्रेणी मिली है उनमें केबी वीमेंस कॉलेज हजारीबाग, रांची वीमेंस कॉलेज रांची, संत कोलंबस कॉलेज हजारीबाग और योगदा सत्संग महाविद्यालय रांची है. बी प्लस श्रेणी में राज्य के 11 कॉलेज हैं.

इसे भी पढ़ें – गढ़वा: क्वारेंटाइन सेंटर के मजदूर दो किलोमीटर दूर से लाते हैं पानी, संक्रमित मिलने के बाद भी सेंटर को नहीं किया गया सेनेटाइज 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close