ChaibasaJharkhand

Chaibasa: ग्रामीण सड़क से ट्रकों के परिचालन को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता में नहीं निकला कोई हल, ग्रामीणों ने दिया एक महीने का अल्टीमेटम 

Chaibasa: मनोहरपुर ग्रामीण सड़क पर आयरन ओर लदे भारी वाहनों के परिचालन को लेकर शुक्रवार को चिड़िया साइडिंग स्थित सेल गेस्ट हाउस में सेल, ठेका कंपनी प्रबंधन एवं पोड़ाहाट अनुमंडल प्रशासन के अधिकारियों के संग ग्रामीणों की त्रिपक्षीय वार्ता हुई. इसमें निर्माणाधीन मीनाबाजार, गिडुंग, कोलभोंगा भाया पोंगा जंक्शन तक तक़रीबन 21 किलोमीटर लम्बी सड़क से होकर चिरिया(सेल) धोबिल खदान से लौह अयस्क ढुलाई को लेकर ग्रामीणों के साथ वार्ता हुई. वार्ता में सेल अधिकारी और जिला प्रशासन ग्रामीणों की मांग पूरी नहीं कर पाए. साढ़े तीन घंटे तक चली बैठक में ग्रामीणों को ठोस आश्‍वासन भी सेल और जिला प्रशासन नहीं दे पाया. जिसके बाद ग्रामीणों ने एक महीने का अल्टीमेटम दिया. ग्रामीणों ने कहा क‍ि एक महीने तक वाहनों के सड़क पर परिचालन की अनुमति दी जाएगी. लेकिन एक महीने बाद भी ग्रामीणों  की मांग पूरी नहीं हुई तो सड़क से मालवाहक भारी वाहनों का परिचालन रोक दिया जायेगा. ग्रामीणों का कहना है कि प्रभावित क्षेत्र के लोग खदान से होनेवाले प्रदूषण से लाल पानी पीने को मजबूर हैं. लाल मिट्टी से कृषि भूमि बंजर भूमि में तब्दील हो गई है. रोज़गार के अभाव में स्थानीय लोग अन्य राज्यों में पलायन करने पर मजबूर हैं जिससे यहां के स्थानीय लोग सेल व ठेका प्रबंधक से काफ़ी नाराज हैं. इसलिए ग्रामीणों की मांग पर सेल व ठेका कंपनी पूर्ण विचार कर ग्रामीणों को सुविधा प्रदान करें.
ग्रामीणों क्या ने रखी अपनी मांग
ग्रामीणों ने अनुमंडल प्रशासन, सेल और ठेका कंपनी के समझ शिक्षा,स्वास्थ्य,पेयजल और रोज़गार उपलब्ध कराने के साथ-साथ डीएवी स्कूल में निःशुल्क शिक्षा व्यवस्था देने की मांग की. साथ ही बस की सेवा, सेल द्वारा बंद माइंसों को शुरू करने, सेल द्वारा एबुंलेंस, एक सेंटर पोइंट,डीप बोरिंग. सेल के द्वारा प्रभावित क्षेत्रों के पढे लिखे युवकों को शिक्षक में बहाली, आईटीआई पास युवकों कौ नौकरी देने की मांग की.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur: बॉलीवुड के महान गायक किशोर कुमार की गीतों से गूंजा माइकल जॉन ऑडिटोरियम, कलाकारों ने पेश किए एक से बढ़कर एक सदाबहार नगमे

Related Articles

Back to top button