न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मेरे लिए कोई बलिदान जेट एयरवेज के हितों के संरक्षण से बड़ा नहीं : गोयल

45

Mumbai : कर्ज निपटान योजना के तहत नरेश गोयल ने जेट एयरवेज के चेयरमैन का पद छोड़ दिया है. यह पद छोड़ते हुए गोयल ने सोमवार को कहा कि उनके लिए कोई भी बलिदान एयरलाइन और उसके 22,000 कर्मचारियों के परिवारों के हितों के संरक्षण से बड़ा नहीं है. गोयल पिछले 25 साल से परिचालन कर रही एयरलाइन के संस्थापक भी हैं.

mi banner add

इसे भी पढ़ें : छह सालों में 2.8 करोड़ महिलाओं की गई नौकरी, ग्रामीण इलाकों में तेजी से गिरा आंकड़ा

22,000 कर्मचारियों के परिवारों के हितों के संरक्षण से बड़ा नहीं

एयरलाइन की ओर से जारी बयान के अनुसार गोयल ने कहा, ‘‘उनके लिए कोई भी बलिदान एयरलाइन और उसके 22,000 कर्मचारियों के परिवारों के हितों के संरक्षण से बड़ा नहीं है. इन 22,000 कर्मचारियों तथा उनके परिवार की भलाई के लिए मैं जेट एयरवेज के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे रहा हूं.’’  गोयल 1992 में कंपनी के चेयरमैन बने थे. गोयल ने कहा, ‘‘मेरा परिवार इस फैसले में मेरे साथ है. मुझे उम्मीद है कि आप मेरे फैसले का समर्थन करेंगे. आप सभी मुझे याद आएंगे.’’

इसे भी पढ़ें :  आप से गठबंधन पर दिल्ली कांग्रेस में दो फाड़, राहुल गांधी पर छोड़ा अंतिम फैसला

जेट एयरवेज मामले में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने जनहित को ध्यान में रखा : जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को कहा कि जेट एयरवेज के मामले में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अपना न्यायोचित हित तथा जनहित को ध्यान में रखा और उनके निर्णय से वह खुश हैं. कर्ज संकट में फंसी जेट एयरवेज को लेकर पिछले कई सप्ताह से जारी अनिश्चितता के बाद एयरलाइन के निदेशक मंडल ने बैंकों के समूह की तरफ से तत्काल 1,500 करोड़ रुपये की पूंजी डालने के साथ-साथ कर्ज को इक्विटी में बदलने को मंजूरी दे दी है.

इसे भी पढ़ें : राशिद अल्वी के चुनाव लड़ने से इनकार के बाद कांग्रेस ने सचिन चौधरी को दिया अमरोहा से टिकट

Related Posts

कर्नाटक : सियासी ड्रामे पर से उठेगा पर्दा,  कुमारस्वामी सरकार के भविष्य पर सोमवार को फैसला संभव

 कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) सरकार रहेगी या जायेगी, इस पर सोमवार को विधानसभा में फैसला होने की संभावना है.  

भारत को और विमानों व एयरलाइन की जरुरत

जेट एयरवेज घटनाक्रम के बारे में जेटली ने कहा कि कर्जदाताओं ने यह निर्णय किया है और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने इस मामले में अपना न्यायोचित हित तथा जनहित को ध्यान में रखा. उन्होंने यहां कहा, ‘‘भारत को और विमानों व एयरलाइन की जरुरत है. ऐसा नहीं होने पर किराया बढ़ेगा. बैंकों ने कंपनी को परिचालन में बनाये रखने के प्रयास करते हुये अपने हित को ध्यान में रखा. उन्होंने इसलिए यह सब किया ताकि वे अपना बकाया वसूल सके. मैं इस निर्णय से खुश हूं.’’

इसे भी पढ़ें :कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का गरीबी पर फाइनल वार कहा- गरीबों को देंगे 72 हजार रुपया सालाना

समूह एयरलाइन के निदेशक मंडल में दो सदस्यों को नामित करेगा

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) की अगुवाई वाले घरेलू बैंकों के समूह की अब एयरलाइन में बहुलांश हिस्सेदारी होगी.  इसके अलावा बैंकों का समूह एयरलाइन के निदेशक मंडल में दो सदस्यों को नामित करेगा. कर्ज समाधान योजना के तहत एयरलाइन के संस्थापक और चेयरमैन नरेश गोयल, उनकी पत्नी अनीता गोयल तथा एतिहाद एयरवेज का नामित निदेशक केविन नाइट निदेशक मंडल से हट रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : 2019 के बाद चुनाव नहीं लड़ने का हेमा मालिनी ने किया ऐलान, मथुरा से भरा पर्चा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: