न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिम्स में भर्ती मरीजों को ठंड से बचाने का कोई प्रबंध नहीं

42

Ranchi : राजधानी में ठंड ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है. धीरे-धीरे तापमान में गिरावट आनी शुरू हो गयी है. शाम ढलते ही ठंड का अहसास होने लगता है. ऐसे में रिम्स में मरीजों को ठंड से बचाने की कोई व्यवस्था नजर नहीं आती. मरीजों को जो एक कंबल दिया जाता है, वह भी इन दिनों नहीं दिया जा रहा. यहां तक कि मरीजों को घर से ही चादर और कंबल लाने को कहा जाता है. रिम्स में आलम ऐसा है कि फर्श पर भी इलाज कराते मरीज दिख जायेंगे. रिम्स में इलाजरत मरीज, जो वार्ड में भर्ती हैं और जो बरामदे में इलाज कराने को मजबूर हैं, उन्हें एक कंबल भी मयस्सर नहीं हो रहा है. यहां तक कि सर्जरी विभाग में भी कुछ ही मरीजों को ठंड से बचने के लिए कंबल उपलब्ध कराया जाता है.

इसे भी पढ़ें- केंद्र से हजारीबाग, पलामू और दुमका में मेडिकल काॅलेज बनाने के लिए अब तक मिल चुके हैं तीन सौ करोड़

मरीज ने कहा- लगता है ठंड से ही मर जायेंगे

SMILE

बरामदा में इलाज करा रहे मरीजों को ठंड से बचाने का उपाय रिम्स प्रबंधन की ओर से नहीं किया जा रहा है. फलस्वरूप बरामदा में इलाज करा रहे मरीज खुद की व्यवस्था से खुद को ठंड से बचाने में लगे हैं. दुमका से इलाज कराने रांची आये रमेश साहू ने बताया कि उन्हें रिम्स प्रबंधन की ओर से बरामदा में गद्दा तो उपलब्ध करा दिया गया है, लेकिन इस कड़ाके की ठंड में कंबल नहीं दिया गया. इससे शाम के बाद काफी ठंड लगती है. तबीयत में सुधार होने की बजाय ऐसा लगता है, जैसे ठंड से ही मर जायेंगे. मालूम हो कि शनिवार को राउंड टेबल की ओर से रिम्स के कुछ मरीजों को कंबल, टोपी और मोजा उपलब्ध कराकर उन्हें ठंड से बचाने का प्रयास किया गया था, लेकिन रिम्स प्रबंधन की ओर से अब तक ऐसा कोई प्रयास नहीं किया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: