न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लालू यादव के घर नीतीश कुमार की नो इंट्री !

बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लेकर इन दिनों सूबे की राजनीति गरम है. कुछ लोग कयास लगा रहे हैं, कि एनडीए में सीटों के लिए फंसे पेंच के बीच नीतीश कुमार एकबार फिर बीजेपी से किनारा कर सकते हैं.

2,113

Patna: बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लेकर इन दिनों सूबे की राजनीति गरम है. कुछ लोग कयास लगा रहे हैं, कि एनडीए में सीटों के लिए फंसे पेंच के बीच नीतीश कुमार एकबार फिर बीजेपी से किनारा कर सकते हैं. और जेडीयू राजद-कांग्रेस के साथ आ सकती है. अब इन आशंकों के बीच बयानबाजी भी खूब हो रही है. हालांकि बिहार के नेता –प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने साफ कर दिया है कि जेडीयू के साथ राजद का कोई गठबंधन नहीं होनेवाला और अब लालू यादव के बड़े बेटे और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप ने अपने घर पर भी नीतीश कुमार के लिए नो इंट्री की बात कही है.

इसे भी पढ़ेंःपुलिस आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च और जवानों का दुर्दशा, उपर भी पानी-नीचे भी पानी (देखें वीडियो)

तेजप्रताप ने नीतीश कुमार का खुलकर विरोध करते हुए कहा कि वह अपनी मां के घर के बाहर चाचा नीतीशके लिए नो एंट्रीका बोर्ड लगवाएंगे. इन दिनों अपनी फिल्‍म रुद्रके लिए चर्चा में चल रहे तेज प्रताप ने तो यहां तक कह दिया कि, ‘जब नीतीश कुमार को 10 सर्कुलर रोड, पटना स्थित हमारे घर में भी नहीं घुसने दिया जाएगा तो महागठबंधन में उनकी एंट्री कैसे संभव है.इससे पहले तेजस्‍वी यादव ने कहा था कि महागठबंधन में नीतीश कुमार के लिए सभी दरवाजे बंद हो गए हैं

बता दें कि महागठबंधन में नीतीश कुमार की वापसी की अटकलें उस समय तेजहुई, जब 17 जून को कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि महागठबंधन तभी फिर से बन सकता है जब जेडीयू चीफ एनडीए से अपना नाता तोड़ लें. हालांकि 26 जून को ही तेजस्‍वी ने कांग्रेस नेताओं के इस सुझाव को खारिज करते हुए कहा था कि इस तरह के किसी भी दबाव काआरजेडी विरोध करेगी. उन्‍होंने यह भी कहा कि उनकी पार्टी कभी भी नीतीश कुमार को स्‍वीकार नहीं करेगी. उल्लेखनीय है कि पिछले साल एनडीए सरकार बनाने के लिए नीतीश कुमार महागठबंधन से अलग हो गए थे और बीजेपी के साथ हाथ मिलाकर सरकार बना ली थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: