BiharCourt NewsLead News

‘ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं’: मुजफ्फरपुर में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ परिवाद

Muzaffarpur: कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान देश में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं होने के केंद्र व राज्य सरकारों के दावे का मामला अदालत पहुंच गया है. बिहार के मुजफ्फपुर की अदालत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया और स्वास्थ्य राज्यमंत्री डॉ. भारती प्रवीण के खिलाफ मुजफ्फपुर की सीजेएम की कोर्ट में गुरुवार को केस दायर किया गया. आईपीसी की धारा 153, 153 ए 295 और 295 ए के तहत परिवाद दर्ज कराया गया है.

 

इसे भी पढ़ें : उपेन्द्र कुशवाहा का दावा: बिहार में पूरे 5 साल खूंटा ठोककर चलेगी नीतीश सरकार

advt

 

केंद्र सरकार ने मंगलवार को संसद में एक सवाल के जवाब में बताया है कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से ऐसी कोई सूचना नहीं मिली कि कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत हुई है। स्वास्थ्य मंत्री से सवाल पूछा गया था कि क्या दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से देश में बड़ी संख्या में मौतें हुई थीं. इस पर राज्यसभा में सरकार ने बताया कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश कोरोना से होने वाली मौतों की जानकारी नियमित आधार पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को देते हैं, लेकिन किसी भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ने ऑक्सीजन की कमी से मौत की जानकारी नहीं दी है.

 

इसे भी पढ़ें : छपरा के मढ़ौरा से NIA ने आतंकी कनेक्शन में शामिल तीसरे युवक को किया गिरफ्तार

मुजफ्फपुर के अहियापुर के भिखनपुरा निवासी तमन्ना हाशमी ने केंद्रीय स्वासथ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण के बयान पर आपत्ति जताई गई है. याचिका में दावा किया गया है कि हाशमी के गांव में ही कई लोगों की जान ऑक्सीजन की कमी के कारण चली गई.शिकायतकर्ता ने मंत्री भारती प्रवीण के संसद में दिए बयान को गैर-जिम्मेदाराना बताया है.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: