BiharLead News

शराब के झूठे केस में फंसाती है नीतीश की पुलिस, जदयू नेता ने ही खोल दी पोल

PATNA: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दावा करते नहीं थकते कि उनके सुशासन में पुलिस अपना काम करती है, ना किसी को फंसाती है और ना ही किसी को बचाती है. लेकिन मुख्यमंत्री के इस दावे की पोल उनकी ही पार्टी के नेता और पूर्व विधायक खोल रहे हैं. उनकी पार्टी के नेता और पूर्व विधायक के महेश्वर प्रसाद यादव ने दावा किया है कि पुलिस लोगों को शराबबंदी के झूठे केस में फंसा रही है.

महेश्वर प्रसाद यादव ने कहा सभी लोगों को बिहार पुलिस शराब के मामले में फंसाती है. महेश्वर प्रसाद यादव गायघाट विधानसभा से जेडीयू के टिकट पर पिछला चुनाव लड़ चुके हैं. आरजेडी से पाला बदलकर जब जेडीयू में शामिल हुए थे तो तेजस्वी यादव को खूब खरी-खोटी सुनाई थी और नीतीश कुमार की शान में कसीदे पढ़े थे लेकिन अब वही महेश्वर प्रसाद यादव आरोप लगा रहे हैं कि नीतीश कुमार की पुलिस भोले भाले लोगों को शराब के केस में झूठे मुकदमे के अंदर फंसा रही है.

इसे भी पढ़ें : 12 साल से वित्तीय लाभ के लिए तरस रहे हैं झारखंड के फोर्थ ग्रेड कर्मचारी

बता दें कि पिछले दिनों बरियारपुर चौक पर पियर थाना पुलिस ने कार्रवाई करते हुए कुछ लोगों के खिलाफ शराब के मामले में गिरफ्तार किया था. पूर्व विधायक ने आरोप लगाया है कि पुलिस निर्दोष लोगों को झूठे मुकदमे में फंसा रही है.

पूर्व विधायक और जेडीयू नेता पुलिस की कार्यवाही के बाद बरियारपुर चौक पहुंचे थे और वहां उन्होंने स्थानीय लोगों से बातचीत की इस दौरान उन्होंने पुलिस की कार्रवाई पर न केवल सवाल उठाए बल्कि सीधा आरोप लगाया कि शराब के झूठे मुकदमे में भोले-भाले लोगों को फंसाया जा रहा है, पुलिस कहीं न कहीं गलत तरीके से एक्शन ले रही है. महेश्वर प्रसाद यादव ने यह भी कहा कि स्थानीय लोगों ने अगर इसका विरोध किया तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है. पूर्व विधायक की मानें तो अगर कोई गलत करता है तो उसका विरोध होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें :तेजस्वी के ऑफर पर चिराग की चुप्पी, आशीर्वाद यात्रा की तैयारी में जुटे

Advt

Related Articles

Back to top button