न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नितिन गडकरी ने कहा – आरक्षण लेकर करोगे क्या, जब देश में नौकरियां है ही नहीं

खत्म हो जाति आधार पर आरक्षण

728

Mumbai: शनिवार को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में भारत सरकार के मंत्री नितिन गडकरी ने आरक्षण पर एक बड़ा ब्यान दिया. एक कार्यक्रम में पत्रकारों के आरक्षण के सवाल पर कहा कि आरक्षण भी नौकरी की गारंटी नहीं देगा क्योंकि देश में सरकारी भर्तियां बंद हैं. बैंक क्षेत्र में आईटी की वजह से नौकरियां कम हो रही हैं. नौकरियां हैं कहां ?

mi banner add

इसे भी पढ़ें- “सिंह मेंशन को टेंशन” देने में पहली बार उछला ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ का नाम

खत्म हो जाति आधार पर आरक्षण

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा यह बात सच है कि गरीब की कोई जाति, भाषा और क्षेत्र नहीं होता है इसलिए आरक्षण जाति के आधार पर नहीं, बल्कि गरीबी के आधार पर मिले तो बेहतर होगा.

उन्होंने कहा कि एक सोच कहती है कि गरीब, गरीब होता है, गरीब की कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती. उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम या हिंदू, सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है. आगे गडकरी ने कहा कि नीति निर्माता हर समुदाय के गरीबों पर विचार करें. गडकरी महाराष्ट्र में आरक्षण के लिए मराठों के वर्तमान आंदोलन तथा अन्य समुदायों द्वारा इस तरह की मांग से जुड़े सवालों का जवाब दे रहे थे.

इसे भी पढ़ें- ‘सरकार की कारगुजारियां उजागार करने वाले को देशद्रोही का तमगा देना बंद करें रघुवर सरकार’

Related Posts

राजनाथ सिंह ने कहा, कश्मीर की समस्या का हल होगा,  दुनिया की कोई ताकत इसे रोक नहीं सकती

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर में  कहा कि  राज्य की सभी समस्याएं हल होंगी

महाराष्ट्र में नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में आरक्षण की मांग

मराठा समाज ने पिछले कई दिनों तक महाराष्ट्र में नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में 16 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन किया. औरंगाबाद, पुणे, नासिक और नवी मुंबई में हिंसक आंदोलन भी हुए. आंदोलनकारियों द्वारा दर्जनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया.

ज्ञात हो कि आरक्षण की मांग को लेकर अबतक कम से कम सात लोग कथित तौर पर खुदकुशी भी कर चुके हैं. हालांकि, अब मराठा समाज आरक्षण आंदोलन को वापस लेने की बात कह रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: