न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नितिन गडकरी ने कांग्रेस के नाना पटोले को शुभकामनाएं दी,  खिलाफ लड़ रहे हैं चुनाव  

 भाजपा नेता नितिन गडकरी अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों से भी कभी दुश्मनी नहीं रखते. यह बात गडकरी ने पत्रकारों से कही.

42

Nagpur :  भाजपा नेता नितिन गडकरी अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों से भी कभी दुश्मनी नहीं रखते. यह बात गडकरी ने पत्रकारों से कही. गडकरी ने अगले महीने नागपुर लोकसभा सीट से उनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे कांग्रेस के नाना पटोले को शुभकामनाएं दी है. बता दें कि लोकसभा के लिए कांग्रेस ने महाराष्ट्र के लिए अपने पांच उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया है. इनमें भाजपा के पूर्व सांसद रहे कांग्रेस में आये नाना पटोले को नागपुर से टिकट दिया गया है.  पूछे जाने पर नितिन गडकरी ने मीडिया से कहा कि वह राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के साथ कभी दुश्मनी नहीं रखते. मीडिया से बात करते हुए उनसे कहा गया था कि पटोले जब भाजपा में थे तो गडकरी का आशीर्वाद उनके साथ था.  इस पर गडकरी ने कहा कि अगर कोई पार्टी छोड़ देता है तो इसका यह मतलब नहीं है कि आशीर्वाद नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः माकपा और भाजपा-आरएसएस हिंसा फैलाते हैं, मोदी अंबानी या नीरव मोदी की सुनते हैं : राहुल

मैं राजनीति में ऐसी दुश्मनी नहीं रखता

उन्होंने कहा, मैं राजनीति में ऐसी दुश्मनी नहीं रखता. मेरी शुभकामनाएं उनके साथ हैं.  इसके बाद उन्होंने कहा कि वह पिछले पांच साल में अपने किये गये कार्य की बदौलत लोगों के सामने जायेंगे.  कांग्रेस द्वारा नाना पटोले को नितिन गडकरी के सामने नागपुर से मैदान में उतारे जाने पर के मद्देनजर गडकरी ने गुरुवार को मीडिया से बात करते हुए कहा,  यह अच्छा है, हर उम्मीदवार को चुनाव लड़ने का अधिकार है.  मैं किसी भी उम्मीदवार पर टिप्पणी या उनकी आलोचना नहीं करूंगा. बता दें कि महाराष्ट्र में लोकसभा की कुल 48 सीटें हैं और राज्य में 11 अप्रैल, 18 अप्रैल, 23 अप्रैल और 29 अप्रैल को चार चरणों में चुनाव होंगे.  हाल ही में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने खुद के पीएम पद क रेस में होने की अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा था कि मैं इस दौड़ में नहीं हूं और मैं दिल से आपको यह बात बता रहा हूं.  इसके अलावा उन्होंने कहा था कि मेरे लिए देश सबसे ऊपर है.  मैं ज्यादा बड़े सपने नहीं देखता, न तो मैं किसी के पास जाता हूं और न ही लॉबिंग करता हूं.

इसे भी पढ़ेंः शीला का बयान, आतंक के खिलाफ मनमोहन उतने सख्‍त नहीं थे,  जितने मोदी हैं, फिर पेश की सफाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: