Khas-KhabarNational

#Nirbhaya की मां के भावुक स्वर, कहा- बेटी की आत्मा को मिलेगी शांति, केजरीवाल बोले- फिर ना हो ऐसा कांड

विज्ञापन

New Delhi: एक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद निर्भया के दोषियों को उनके गुनाहों की सजा मिल गयी. शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे चारों दोषियों को फांसी की सजा दी गयी. चारों दोषियों का शव डीडीयू हॉस्पीटल लाया गया है.

दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल में थोड़ी देर में पोस्टमार्टम होगा. दो एंबुलेंस में चारों दोषियों के शवों को लाया गया है. अब डॉक्टर बीएन मिश्रा की अगुवाई में पांच सदस्यीय मेडिकल टीम पोस्टमार्टम करेगी.

इसे भी पढ़ेंः#NirbhayaJustice: सात साल बाद देश की बेटी को मिला इंसाफ, तिहाड़ जेल में चारों दोषियों को फांसी

वहीं निर्भया के दोषियों को सजा मिलने पर उनकी मां आशा देवी ने नम आंखें लिए भावुक स्वर में कहा कि अब मेरी बेटी की आत्मा को शांति मिलेगी. साथ ही कहा कि आखिरकार न्याय हुआ और अब महिलाएं सुरक्षित महसूस करेंगी.

adv

महिलाएं अब सुरक्षित महसूस करेंगी- निर्भया की मां

द्वारका स्थित अपने आवास पर आशा देवी ने संवाददाताओं से कहा कि न्याय में विलंब हुआ लेकिन उन्हें न्याय मिला. उन्होंने कहा कि भारत की बेटियों के लिए न्याय की खातिर उनकी लड़ाई जारी रहेगी.

आशा देवी ने कहा ‘हम उच्चतम न्यायालय से दिशा-निर्देश जारी करने का अनुरोध करेंगे ताकि भविष्य में अपराधी बचाव के लिए किसी तरह की तिकड़म न अपना सकें.’

उन्होंने कहा कि दोषियों को फांसी के बाद अब महिलाएं निश्चित रूप से खुद को सुरक्षित महसूस करेंगी. उन्होंने कहा कि मृत्यु वारंट पर तामील को तीन बार अलग-अलग आधार पर टाला गया लेकिन अंतत: उन्हें न्याय मिला.

उन्होंने कहा ‘‘संविधान और न्याय व्यवस्था में हमारा विश्वास हिल जैसा गया था लेकिन विश्वास बहाल हो गया. यह फांसी अपराधियों को कड़ी चेतावनी देगी कि वे इस तरह के अपराध करने की हिम्मत न करें..’’

उन्होंने सभी मांओं से अपील की कि परिवार और समाज में होने वाले यौन उत्पीड़न के मामलों की रिपोर्ट दर्ज अवश्य कराएं और अपनी बेटियों का साथ दें.

निर्भया के पिता ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा ‘न्याय के लिए हमारा इंतजार बेहद पीड़ादायी था. हम अपील करते हैं कि आज का दिन निर्भया ‘न्याय दिवस’ के तौर पर मनाया जाए.’

उन्होंने बताया कि, ‘हम पूरी रात सो नहीं पाए. गुरुवार रात हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट तक दौड़ते रहे. लेकिन अंत: वह घड़ी आ ही गई. बलिया में हमारे गांव में अब होली खेलेंगे.’

इसे भी पढ़ेंः#CoronaUpdate: देश में संक्रमितों की संख्या हुई 195, चार की मौत, 20 लोग हुए स्वस्थ

निर्भया जैसा कांड दोबारा ना होने देने का संकल्प लें- केजरीवाल

निर्भया मामले के चारों दोषियों को फांसी दिए जाने के बाद कुछ घंटे बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि आज का दिन यह संकल्प लेने का दिन है कि हम अब और कोई निर्भया कांड नहीं होने देंगे.

केजरीवाल ने ट्वीट कर पुलिस, अदालत, राज्यों और केन्द्र सरकार के एक साथ आने और सिस्टम की ख़ामियों को दूर करने का संकल्प लेने की बात कही.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘ सात साल बाद आज निर्भया के दोषियों को फांसी हुई. आज संकल्प लेने का दिन है कि अब दूसरा निर्भया मामला नहीं होने देंगे. पुलिस, अदालत, राज्य सरकार, केन्द्र सरकार सबको संकल्प लेना है कि हम सब मिलकर सिस्टम की ख़ामियों को दूर करेंगे और भविष्य में किसी बेटी के साथ ऐसा नहीं होने देंगे.’

न्याय प्रणाली को लेकर संदेह दूर हो गया- NCW प्रमुख

राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने शुक्रवार को कहा कि आखिरकार न्याय मिलने के बाद निर्भया की आत्मा को शांति मिली होगी और उम्मीद है कि सामूहिक दुष्कर्म तथा हत्या के इस बर्बर मामले के चारों दोषियों की फांसी दूसरों को ऐसा अपराध करने से रोकने का काम करेगी.

रेखा शर्मा ने कहा कि इस मामले ने कानून प्रणाली में कमियों को उजागर किया जिसका चारों दोषियों ने फायदा उठाया.

इसे भी पढ़ेंःक्या फ्लोर टेस्ट पास कर पायेंगे कमलनाथ? दिग्विजय बोले- बहुमत नहीं

एनसीडब्ल्यू की प्रमुख रेखा शर्मा ने ट्वीट किया, ‘‘उम्मीद है कि न्याय मिलने के बाद निर्भया की आत्मा को आखिरकार शांति मिली होगी. लंबी कानूनी लड़ाई के बाद उसके माता-पिता ने अपनी बेटी के लिए न्याय की लड़ाई जीत ली. चारों लोगों को एक युवा मेडिकल छात्रा पर बर्बर अपराध के लिए अंतत: दोषी ठहराया गया और आज सुबह फांसी दी गई.’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस मामले ने हमें कानून प्रणाली में खामियों को भी दिखाया जिसका चारों दोषियों ने फायदा उठाया. आज जब हम जानते हैं कि आखिरकार दोषियों को फांसी दी गई तो मैं उम्मीद करती हूं कि यह दूसरे लोगों को अपराध के लिए रोकने का काम करेगा और भविष्य में किसी मामले में न्याय देने के लिए इतना लंबा वक्त नहीं लगना चाहिए.’’

शर्मा ने कहा, ‘‘इतने सालों में आशा देवी (निर्भया की मां) ने अपनी बेटी को न्याय दिलाने की लड़ाई में कभी उम्मीद नहीं खोई. अंतत: निर्भया को न्याय मिला, यह उसके माता-पिता और हम सबके लिए लंबा दुखदायी इंतजार रहा. न्याय प्रणाली को लेकर हमारे मन में चल रहा संशय दूर हो गया है.’’

2012 में हुआ था गैंगरेप और मर्डर

गौरतलब है कि दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को एक महिला के साथ हुए गैंग रेप एवं हत्या के मामले के चारों दोषियों को आज (शुक्रवार की सुबह) साढ़े पांच बजे फांसी दे दी गई.

इस मामले के चारों दोषियों मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) ने फांसी से बचने के लिए अपने सभी कानूनी विकल्पों का पूरा इस्तेमाल किया और गुरुवार की रात तक इस मामले की सुनवाई चली.

गैंगरेप एवं हत्या के इस मामले के इन दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तीन बार सजा की तामील के लिए तारीखें तय हुईं लेकिन फांसी टलती गई.

इसे भी पढ़ेंः#Coronavirusoutbreakindia : 22 मार्च रविवार को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक देश भर में जनता कर्फ्यू

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button