National

#Nirbhaya Case : डेथ वारंट जारी, फांसी की नयी तारीख तीन मार्च, सुबह 6 बजे लटकाये जायेंगे दोषी

NewDelhi : निर्भया गैंगरेप केस के दोषियों को अब तीन मार्च को सुबह छह बजे फांसी दी जायेगी. सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के बाद कोर्ट ने फांसी की नयी तारीख (तीन मार्च) जारी कर दी. इससे पूर्व गुरुवार को सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए पटियाला कोर्ट ने सोमवार तक के लिए फैसला टाल दिया था.

जान लें कि न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा की पीठ के सामने सरकारी वकील ने डेथ वारंट जारी करने की मांग की. उधर दोषियों की तरफ एपी सिंह ने इसके विरोध में दलीलें दीं. जिरह लगभग एक घंटे तक चली. उसके बाद कोर्ट ने डेथ वारंट जारी कर दिया.

इसे भी पढ़ें : #Shaheen_Bagh_Protest : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, विरोध के नाम पर सड़क जाम नहीं कर सकते, अगली सुनवाई 24 फरवरी को

अक्षय, विनय और मुकेश की दया याचिका खारिज हो चुकी है

सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने कहा कि तीन दोषियों अक्षय, विनय और मुकेश की दया याचिका खारिज हो चुकी है. एक दोषी पवन की ओर से इस मामले में दया याचिका और क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल होनी बाकी है. सरकारी वकील ने कहा कि हाइकोर्ट की तरफ से दी गई एक सप्ताह की समयसीमा भी 11 फरवरी को समाप्त हो चुकी है. उन्होंने दलील दी कि फिलहाल किसी भी दोषी की कोई भी याचिका किसी भी कोर्ट में लंबित नहीं है, इसलिए नया डेथ वारंट जारी किया जा सकता है.

advt

विनय ने छोड़ दिया है खाना-पीना

दोषियों के वकील एपी सिंह ने दलील दी कि विनय की मानसिक हालत ठीक नहीं है.कहा कि उसकी हालत इतनी खराब है कि उसने 11 फरवरी से खाना-पीना भी छोड़ दिया है. एपी सिंह ने कोर्ट को बताया कि आज विनय की मां जेल में उससे मिलने गयी थीं, विनय के पूरे सर पर पट्टियां बढ़ी हुई थीं.

यह गंभीर मामला है. उन्होंने कोर्ट से विनय की मेडिकल रिपोर्ट मंगवाने की मांग की और कहा कि उसके सिर में भी काफी चोट आयी है. कहा कि जेल सुपरिटेंडेंट से रिपोर्ट मंगाते हुए जेल मैनुअल का ध्यान रखने को कहा जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : #CDS जनरल रावत ने कहा, भारत की जम्मू-कश्मीर में अलग थिएटर कमान स्थापित करने की योजना  

फिर दया याचिका लगाना चाहता है अक्षय

एपी सिंह ने कोर्ट को बताया कि हम अक्षय की दया याचिका लगाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि कुछ दस्तावेज लगाये जाने बाकी रह गये थे. कहा कि अक्षय के माता-पिता ने दया याचिका आधी-अधूरी लगाई थी. एपी सिंह ने कहा कि अगर कोर्ट हमें परमिशन दे, तो हम आज अक्षय का हस्ताक्षर कराकर राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगा देंगे.

इस क्रम मं पवन के वकील रवि काजी ने कोर्ट को बताया कि वह भी क्यूरेटिव और दया याचिका लगाना चाहते हैं. वृंदा ग्रोवर ने कोर्ट को बताया कि मुकेश ने अब उनसे कानूनी मदद नहीं लेने की इच्छा जताई है, इसलिए उन्हें इस केस से मुक्त किया जाये.

इसे भी पढ़ें : #Collegium_System पर राजद को संदेह, कहा, यह भी वही करता है, जो RSS करना चाहता है

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: