JharkhandPalamuRanchi

नीलांबर-पीतांबर विवि : 16 स्थायी संबद्ध कॉलेजों को नहीं मिल रहा अनुदान

विज्ञापन

Ranchi : पलामू स्थित नीलांबर-पीतांबर यूनिवर्सिटी में सामान्य स्नातक-स्नातकोत्तर की पढ़ाई के लिए कंसीच्यूएंट कॉलेजों के मुकाबले एफिलिएटेड कॉलेजों की संख्या ज्यादा है. इस विवि के अंर्तगत कंसीच्यूएंट कॉलेज केवल चार और परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेजों की संख्या 16 है. यही 16 परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेज पलामू प्रमंडल की शिक्षा व्यवस्था को संभाले हुए हैं. हर कॉलेज में औसतन दो हजार से अधिक स्टूडेंट पढ़ाई करते हैं. लेकिन इन परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेजों को दो शैक्षणिक सत्र की अनुदान राशि अब तक नहीं मिल पायी है. इसे लेकर परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेज के शिक्षकों और शिक्षकेतर कर्मचारियों में रोष है.

इसे भी पढ़ें – CoronaUpdate: देश में संक्रमितों का आंकड़ा 14 लाख के पार, 32 हजार से ज्य़ादा मौतें

विश्वविद्यालय को चार माह पहले मिल चुकी है राशि

मिली जानकारी के अनुसार स्थायी संबद्ध कॉलेज यानी परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेजों को सरकार की ओर से प्रत्येक एकेडमिक इयर की अनुदान राशि दी जाती है. इसके लिए विश्वविद्यालय को पैसा भेजा जाता है. इसके बाद विश्वविद्यालय संबंधित परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेजों के शासी निकाय से प्रस्ताव मंगा कर अनुदान की राशि कॉलेजों को देता है. नीलांबर-पीतांबर यूनिवर्सिटी में एकेडमिक इयर 2018-19 और 2019-20 की अनुदान की राशि परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेजों को अब तक नहीं मिली है. जबकि दोनों ही शैक्षणिक सत्र के लिए विभाग की ओर से जारी अनुदान राशि पिछले करीब चार माह पूर्व विश्वविद्यालय को प्राप्त हो चुका है. इसके बाद भी कॉलेजों को अनुदान की राशि नहीं दी गयी है.

advt

इसे भी पढ़ें – फॉरेस्ट क्लियरेंस पेंडिंग होने के कारण लगभग चार साल से रुकी है ट्रांसमिशन लाइन की महत्वपूर्ण योजनाएं

कॉलेज भेज चुके शासी निकाय का प्रस्ताव

गौरतलब है कि विवि सभी कॉलेजों के शासी निकाय से अनुदान संबंधी प्रस्ताव मंगाता है. यह प्रस्ताव कॉलेजों की ओर से महीनों पहले विवि को भेजा जा चुका है. दरअसल परमानेंट एफिलिएटेड कॉलेज की आय का स्रोत हर साल मिलनेवाले अनुदान के अलावा स्टूडेंट्स से मिलनेवाली फीस होती है. इसी पैसे से कर्मचारियों को भुगतान किया जाता है. लेकिन कोरोना की वजह से कॉलेज बंद हैं. ऐसे में छात्र-छात्राओं से मिलनेवाली फीस भी नहीं आ रही है. इस वजह से उन कॉलेजों में काम कर रहे शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मचारियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – भारतीय वायुसेना की बढ़ेगी ताकत, 29 जुलाई को भारत की धरती पर लैंड करेंगे 5 राफेल विमान

adv
advt
Advertisement

6 Comments

  1. Hey! Do you know if they make any plugins to help with Search Engine Optimization? I’m trying to get my blog to rank
    for some targeted keywords but I’m not seeing very
    good results. If you know of any please share.
    Kudos! cheap flights 3aN8IMa

  2. Do you mind if I quote a few of your posts as long as I provide credit and sources back to your blog?
    My blog is in the very same area of interest as yours and my
    visitors would truly benefit from some of the information you
    present here. Please let me know if this okay with you.
    Appreciate it!

  3. Hi, I think your website might be having browser compatibility issues.

    When I look at your blog in Ie, it looks fine but when opening in Internet Explorer,
    it has some overlapping. I just wanted to give you
    a quick heads up! Other then that, very good blog!

    adreamoftrains website hosting companies

  4. My spouse and I stumbled over here from a different web page and thought
    I may as well check things out. I like what I see so now i am following you.
    Look forward to going over your web page again.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button