न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Import-एक्सपोर्ट के नाम पर गिरिडीह के कारोबारी से 80 लाख की ठगी, नाइजीरिया का लॉ स्टूडेंट गिरफ्तार

766

Giridih: हर्बल केमिकल के इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट के कारोबार के नाम पर गिरिडीह के कारोबारी से 80 लाख रुपये की ठगी के अंतरराष्ट्रीय व हाइप्रोफाइल मामले का खुलासा गिरिडीह की साइबर पुलिस ने किया है.

मामले में अफ्रीका महादेश के नाईजीरिया के लॉ कॉलेज के एक छात्र को महाराष्ट्र के पुणे से गिरफ्तार किया गया है. 40 वर्षीय छात्र का नाम माउगो चान्हो हेनरी एलियस उर्फ डॉ एलेक्स डेविड बताया जा रहा है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

पुलिस के अनुसार हेनरी मुंबई के एनएम जोशी थाना से इसी ठगी के मामले में पहले जेल जा चुका है.

इसे भी पढ़ें : लातेहार वृद्धा पेंशन मामला: डीसी ने दी हेमंत सोरेन को गलत जानकारी, अब कह रहे बैंक की देरी से नहीं मिला पेंशन

चार सहयोगी फरार

पुलिस ने तीन लीटर कथिल हर्बल केमिकल भी जब्त किया है. पुलिस के अनुसार हेनरी के गिरोह के चार सहयोगी अब भी फरार हैं जो नाइजीरिया व भारत के रहनेवाले हैं. इनमें मिस पामेला, डॉ. रेमंड बेंसन, सुनीता जोस और संजय जोशी शामिल हैं.

पुलिस इन चारों की गिरफ्तारी के लिए एक बार फिर मुंबई और पुणे में दबिश देगी.

किस्तों में किया भुगतान

#Import-एक्सपोर्ट के नाम पर गिरिडीह के कारोबारी से 80 लाख की ठगी, नाइजेरिया का लॉ स्टूडेंट गिरफ्तार
आरोपी के पास से बरामद कथित हर्बल केमिकल.

शुक्रवार को पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता कर एसपी सुरेन्द्र झा व साइबर डीएसपी संदीप सुमन समदर्शी ने बताया कि निर्मल झुनझुनवाला ने तीन किस्तों में 80 लाख का भुगतान किया.

पूरे केमिकल कारोबार के लिए हेनरी ने एक करोड़ तीन लाख में डील किया था जिसमें झुनझुनवाला ने 80 लाख का भुगतान तीन किस्तों में किया.

जिस हर्बल केमिकल के इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट कारोबार की बात आरोपी ने की थी उसकी सच्चाई भी सामने आना अभी बाकी है. झुनझुनवाला और पुलिस इस बार में कुछ भी स्पष्ट नहीं कर पा रहे.

इसे भी पढ़ें : हज कमेटी भंग करने का आदेश कल्याण विभाग ने किया जारी, 9 जुलाई 2018 को हुआ था गठन

बाकी के 23 लाख देने की बात पर हुआ शक

#Import-एक्सपोर्ट के नाम पर गिरिडीह के कारोबारी से 80 लाख की ठगी, नाइजेरिया का लॉ स्टूडेंट गिरफ्तार
गिरफ्तार किया गया नाइजीरिया का लॉ स्टूडेंट (चेहरा ढंका हुआ).

80 लाख का भुगतान होने पर 23 लाख बाकी रह गया था. इसकी मांग किये जाने पर झुनझुनवाला को शक हुआ. उन्होंने मामले की जानकारी एसपी सुरेन्द्र झा को दी.

झुनझुनवाला से पूरे मामले की जानकारी लेने के बाद एसपी झा के निर्देश पर एसआइटी की स्पेशल जांच टीम का गठन किया गया.

टीम में शामिल डीएसपी संदीप सुमन समदर्शी और साइबर पुलिस निरीक्षक सुमन मंडल के नेत्तृव में छह सदस्यीय पुलिस टीम पहले मुंबई पहुंची, हालांकि मुंबई के एनएम थाना से कोई सुराग हाथ नहीं लगा.

लेकिन मुंबई के इसी थाना क्षेत्र से गिरोह से कनेक्शन रखने वाले एक संदिग्ध से पूछताछ करने पर पुलिस को जानकारी मिली कि माउगो हेनरी महाराष्ट्र के पुणे में है.

इस पर एसआइटी टीम ने संदिग्ध के बताये स्थान में पुणे में छापेमारी कर हेनरी को दबोचने में सफलता पायी.

इसे भी पढ़ें : दो साल में देशद्रोह के मामले हुए दोगुने, सबसे ज्यादा FIR झारखंड में: NCRB

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like