JharkhandMain SliderRanchi

निगम जलबोर्ड के जेई समय पर नहीं करते फील्ड विजिट, उपभोक्ताओं से करते हैं अवैध वसूली  

  • वाटर कनेक्शन लेने वाले उपभोक्ताओं बन रहे जेई के अवैध कमायी का जरिया
  • जेई के लापरवाही से वाटर कनेक्शन लेने वाले आवेदनों की संख्या 300 के पार

Ranchi :  रांची नगर निगम के जूनियर इंजीनियरों (जेई) ने अब अपनी अवैध कमायी के लिए राजधानी के उपभोक्ताओं को ही परेशान करना शुरू कर दिया है. पुख्ता सूत्रों ने बताया है कि निगम के जलबोर्ड में यह काम धड़ल्ले से चल रहा है. दरअसल राजधानी के आम उपभोक्ताओं को वाटर कनेक्शन के लिए निगम में आवश्यक दस्तावेज जमा करना जरूरी है.

एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते वाटर कनेक्शन लेने वाले उपभोक्ता निगम में आवेदन करते हैं. नियम के तहत आवेदन के 21 दिन के अंदर जेई को उपभोक्ता के घऱ जाकर फील्ड वेरिफेशन करना होता है. लेकिन निगम के जेई इसमें लापरवाही बरतते हैं.

दरअसल इसके पीछे की वजह उनकी अवैध कमायी है. 21 दिनों तक कागजी कार्रवाई पूरी नहीं होने पर उपभोक्ता निजी पलम्बर से वाटर कनेक्शन लगवा लेता है. लेकिन कुछ माह बाद जेई फील्ड विजिट पर जाते हैं और उपभोक्ताओं से मनमाना शुल्क वसूलते हैं.

इसे भी पढ़ें – जेवीएम विधायकों को बीजेपी के उपभोग की वस्तु बनाना ही बाबूलाल का नेचर: जेएमएम

300 से ज्यादा आवेदन हैं लंबित

निगम के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि जलबोर्ड में यह काम बड़े धड़ल्ले से चल रहा है. उपभोक्ताओं के आवेदन के बाद भी जेई फील्ड विजिट पर जाते हैं. नियम तो वाटर कनेक्शन के लिए दिये आवेदन के 21 दिन के अंदर एप्रुवल देने का है.

लेकिन दो से तीन माह तक जेई ऐसे मामलों को लटकाकर रखते हैं. इस वजह से वाटर कनेक्शन के लिए आवेदनों की संख्या करीब 300 से ज्यादा हो चुकी है. कई बार तो उपभोक्ता जलबोर्ड में आकर भी शिकायत करते हैं, लेकिन इस शिकायत का किसी भी जलबोर्ड के अधिकारी पर असर नहीं पड़ता है.

इसे भी पढ़ें – लवगुरु मटुकनाथ और जूली की लव स्टोरी में भोजपुरी गायिका देवी का ट्विस्ट, जानें पूरी कहानी

फील्ड विजिट नहीं करने के पीछे जेई की अवैध कमायी

साथ ही उस अधिकारी ने बताया कि वाटर कनेक्शन के लिए आये आवेदनों के बाद जेई विजिट करने नहीं जाते हैं, क्योंकि इसके पीछे निगम में कार्यरत जेई की अवैध कमायी है. सात ही ध्कारी ने बताया कि जलबोर्ड में कार्यरत जेई या तो ऑफिस में टाइम पास करते हैं, या काम के बहाने से कार्यालय से बाहर रहते हैं.

जब उन्हें लगता है कि अब वाटर कनेक्शन वाले उपभोक्ताओं के आवास जाकर फील्ड वेरिफिकेशन किया जाए, तो वे फील्ड जाते हैं. उसके बाद वे उपभोक्ताओं पर गलत तरीके से वाटर कनेक्शन लेने का आरोप लगाकर अवैध कमायी करते हैं.

इसे भी पढ़ें – #Ranchi: 649 हाइ रिजॉल्यूशन कैमरे लगने के बाद भी अपराधी हो रहे फरार, पुलिस को नहीं मिलता फुटेज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button