West Bengal

एनआइए की पूछताछ में खुलासा, लश्कर आतंकी तानिया को हनीट्रैप के लिए इस्तेमाल कर रही थी आइएसआइ

Kolkata : पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ लश्कर-ए-तैयबा की महिला आतंकी तानिया परवीन को हनीट्रैप के लिए इस्तेमाल कर रही थी. यह खुलासा उत्तर 24 परगना जिले के बादुरिया से 18 मार्च को गिरफ्तार लश्कर आतंकी तानिया से पूछताछ में हुआ है.

Jharkhand Rai

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की पूछताछ में तानिया ने स्वीकार किया कि कैसे वह अपने एक चचेरे भाई के माध्यम से जिहाद के प्रति आकर्षित हुई और आतंकियों के कश्मीरी समूह के संपर्क में आयी. कैसे वह लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ कर पाकिस्तानी नंबरों का इस्तेमाल करते हुए 50 से अधिक वाट्सएप ग्रुप चला रही थी इसके बारे में भी जानकारी दी है.

इसे भी पढ़ें – कोरोना के इलाज में निजी अस्पताल नहीं कर सकेंगे मनमानी वसूली, कैपिंग रेट 8 से 18 हजार तय, घोषणा जल्द

तल्हाए ने ‘गनमैन टाइगर’ नाम से एक वॉट्सएप ग्रुप तैयार किया

इसी दौरान आइएसआइ की हनीट्रैप असाइनमेंट और साजिश सामने आयी है. पूछताछ के दौरान तानिया ने कहा कि उसकी वॉट्सएप ग्रुप के जरिए हाफिज तल्हा नाम के लश्कर सदस्य से बातचीत हुई थी. न केवल उसने अपने पांच पाकिस्तानी नंबर दिये, बल्कि तल्हा ने उसे अबरार नामक एक पाकिस्तानी होमियोपैथ डॉक्टर से भी बात करायी थी. उसी डॉक्टर ने उन्हें शाहजादा और रईस नाम के दो आइएसआइ अधिकारियों से फोन पर बात करायी. उन सभी को शामिल कर तल्हा ने ‘गनमैन टाइगर’ नाम से एक वॉट्सएप ग्रुप तैयार किया.

इसे भी पढ़ें – रांची के तमाड़ से भारी में मात्रा में गोली और विस्फोटक बरामद

राणा के निर्देशानुसार तानिया ने तैयार की फर्जी फेसबुक प्रोफाइल

उस वॉट्सएप ग्रुप में शाहजादा ने तानिया को अपने वोटर आइकार्ड और पैन कार्ड की कापी भेजने के लिए कहा. उसने भेज दिया इसके बाद सत्यापित करने के बाद खुद को आइएसआइ अधिकारी की परिचय देकर राणा नामक एक व्यक्ति ने वॉयस कॉल के माध्यम से उससे दो बार संपर्क किया. दूसरी बार संपर्क करते हुए राणा ने उसे सेना और वायु सेना के अधिकारियों को जाल में फंसाने का कार्य दिया. तानिया को फेसबुक के माध्यम से पाकिस्तान की सीमा से सटे भारतीय राज्य के वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारियों को जाल में फांस कर उससे एक बैठक के बारे में जानकारी जुटाने को कहा. राणा के निर्देशानुसार तानिया ने एक फर्जी फेसबुक प्रोफाइल तैयार की. राणा ने तानिया से उस फेसबुक प्रोफाइल की यूजर आइडी और पासवर्ड लिया और सुरक्षा बल के कुछ अधिकारियों के फ्रेंड लिस्ट में शामिल करा दिया.

इससे पहले तानिया अधिकारी को फांस पाती, वह पकड़ी गयी

इसके बाद तानिया को कहा गया है कि उक्त सूची में अपनी पसंद के मुताबिक किसी अधिकारी को ‘संभावित लक्ष्य’ के रूप में चुन कर उसे अपनी खूबसूरती के जाल में फंसा ले. लेकिन समस्या तब शुरू हुई जब एक अधिकारी बार-बार वीडियो कॉल करने लगा और तानिया को तस्वीरें भेजने के लिए कहा. यह बात उसने राणा को बतायी तो उसने तानिया को हिजाब उतार कर वीडियो कॉल करने और तस्वीरें भेजने का निर्देश दिया था. परंतु, वह अधिकारी को फांस पाती उससे पहले ही पकड़ी गयी.

इसे भी पढ़ें – प. बंगालः रोजगार की तलाश में दूसरे राज्यों की ओर रुख कर रहे हैं नदिया के बुनकर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: