JharkhandRanchi

#Newtrafficrules: सरकार नये मोटर व्हीकल कानून को वापस ले, नहीं तो होगा राज्यव्यापी आंदोलनः बाबूलाल

मोटर व्हीकल कानून के खिलाफ सड़क पर उतरे बाबूलाल, कानून को जेब में डाका डालनेवाला बताया

Ranchi: संशोधित मोटर व्हीकल कानून से आमजनों को हो रही परेशनी को लेकर झाविमो की ओर से मोरहाबादी मैदान (गांधी प्रतिमा) से अल्बर्ट एक्का चौक तक साइकिल के साथ आक्रोश मार्च निकाला गया. इस मार्च का नेतृत्व झाविमो सुप्रिमो बाबूलाल मरांडी ने किया.

आक्रोश मार्च में पार्टी कार्यकर्ताओं ने साईकिल पर सवार होकर केन्द्र और राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया और उनके खिलाफ जम कर नारेबाजी की.

advt

#NewTrafficRule पर खुल कर बोल रहे हैं- पढ़ें लोग क्या कह रहे हैं (हर घंटे जानें नये लोगों के विचार)

रघुवर सरकार कानून वापस लेः मरांडी

आक्रोश मार्च को संबोधित करते हुए बाबूलाल मरांडी ने कहा आखिर राज्य की जनता ने क्या गुनाह किया है जो उनकी जेब में डाका डाला जा रहा है. झारखंड विकास मोर्चा सरकार से मांग करता है कि इस कानून को जल्द से जल्द वापस ले. रघुवर सरकार राज्य की जनता को लूट रही है.

मोदी सरकार ने नोटबंदी कर तिजोरी से पैसा निकालने का काम किया. लोगों को घंटों बैंक में खड़ा कराया. वहीं जीएसटी लागू कर देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करने का काम किया.

अब नये मोटर व्हीकल कानून को लागू कर जेब में डाका डालने का काम कर रही है . रघुवर सरकार अगर कानून को वापस नहीं लेती तब इसे लेकर झाविमो राज्यव्यापी आंदोलन खड़ा करेगा.

adv

इसे भी पढ़ें – #Newtrafficrules: भाजपा के सांसद और विपक्ष के विधायक सभी कर रहे हैं नये ट्रैफिक नियमों लिए अतिरिक्त समय की मांग

अब जनता चालान काटेगी

बाबूलाल ने नये कानून को लेकर सवाल खड़ा किया कि राज्य की रघुवर सरकार को इस वाले कानून को लागू करने में इतनी हड़बड़ाहट क्यों है? जनता इसका जवाब चाहती है.

उन्होंने कहा कि इस सरकार की विदाई अब तय हो चुकी है. राज्य की भाजपा नीत सरकार को जनता का जितना चालान काटना था काट लिया, अब चालान काटने की बारी जनता की है. 2019 में इस सरकार की चलान जनता काट देगी. उन्होंने कहा कि कोई भी कानून जनता की सहूलियत के लिए होती है न कि परेशान करने के लिए.

ये थे शामिल

आक्रोश मार्च में मुख्य रुबप से पूर्व मंत्री रामचन्द्र केशरी, केन्द्रीय महासचिव खालीद खलील, सरोज सिंह, महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता, ग्रामीण जिला अध्यक्ष प्रभुदयाल बड़ाईक, महासचिव जितेन्द्र वर्मा, संतोष कुमार, युवा मोर्चा के अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह, तौहीद आलम ,शोभा यादव, जितेन्द्र कुमार, सुचीता सिंह, बल्कू उरांव, संजय टोप्पो, सरीफ अंसारी, दयानंद राम, अनीता गाड़ी, सम्पती देवी, तौहिद आलम, अभिजीत दत्ता, बंधना उरांव, मुन्ना बड़ाईक, मंतोष सिंह, नजीबुल्लाह खान, राम मनोज सिंह, आदित्य मोनू, राहुल शाहदेव, नेहा सिंह, जिवेश सोलंकी, तैमून अंसारी, डॉ0 विनोद सिंह, विनीता मुण्डा, सुरेश शर्मा, नान्हे कच्छप, भीम शर्मा, मन्नु चैधरी, विनोद ठाकुर, रेयाज खान, राकेश सिंह, गुड्डु साहू, चांद मंसूरी, मो0 अलाउद्दीन, गुड्डु तिर्की, सोमित्रो भट्टाचार्य, मनोरंजन विश्वकर्मा, निर्मला देवी, अभिनव सिंह सहित हजारों की तादाद में शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – स्टेन स्वामी को नहीं मिली हाइकोर्ट से राहत, निचली अदालत से जारी वारंट को निरस्त करने की मांग की थी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button