न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्यूजविंग इंपेक्ट : बंद वाटर ATM पर नगर निगम ने लिया संज्ञान, एजेंसी को भेजा नोटिस

संचालक एजेंसी की सेवा में त्रुटि

149

Giridih : गिरिडीह शहर में  पिछले कई दिनों से वाटर एटीएम बूथों के बंद रहने की खबर पर नगर निगम ने संज्ञान लेते हुए रांची स्थित इसके संचालक एजेंसी विवेक इंफ्रास्ट्रक्चर को नोटिस किया है. न्यूज विंग ने पिछले दिनों शहर में लगे पांच वाटर एटीएम बूथों के बंद रहने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था. नगर निगम ने इसे गंभीरता से लेते हुए इन वाटर एटीएम को सुचारू रूप से नियमित चालू रखने की पहल शुरू कर दी है. गौरतलब है कि गिरिडीह शहर में संचालित सभी वाटर एटीम पिछले एक सप्ताह से बंद है. इसकी वजह से शहर आने वाले राहगीरों को पीने के पानी के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

mi banner add

सेवा करार का उल्लंघन कर रही है एजेंसी : नगर आयुक्त

वाटर एटीम बूथों के बंद रहने के मामले को गिरिडीह नगर निगम आयुक्त गणेश कुमार ने गंभीरता से लेते हुए संचालक एजेंसी विवेक इंफ्रास्ट्रक्चर पर कार्रवाई का मन बना लिया है. उन्होंने कहा कि 2017 में उक्त एजेंसी ने शहर में वाटर एटीएम इंस्टॉल किया था. नगर विकास विभाग द्वारा एजेंसी के साथ सात साल के लिए मशीन इंस्टॉलेशन, रख-रखाव और इसके संचालन का एग्रीमेंट किया गया था. वाटर एटीएम के नियमित सुचारू संचालन की पूरी जिम्मेदारी उक्त एजेंसी पर है. लेकिन एजेंसी का काम संतोषजनक नहीं है. हमेशा वाटर एटीएम बंद रहने की सूचना मिलती है.

Related Posts

बेरमो : खेतको में दामोदर नदी के घाट से बालू का अवैध उठाव जारी

प्रतिदिन पचासो की संख्या में टैक्टरों से बालू का उठाव किया जा रहा है.

वाटर एटीएम के कर्मियों को कई महीनों से नहीं मिला वेतन

नगर आयुक्त ने बताया कि एजेंसी को नोटिस भेजने के साथ नगर विकास विभाग को भी पूरी स्थिति से अवगत कराया जा रहा है. विभाग से जैसा दिशा निर्देश मिलेगा, उसी अनुरूप आगे की कार्रवाई की जाएगी. इधर गिरिडीह के मेयर सुनिल पासवान भी उक्त एजेंसी की लापरवाही से असंतुष्ट हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें पता चला है कि उक्त एजेंसी द्वारा वाटर एटीएम में बहाल किए गए कर्मियों को कई माह से वेतन नहीं दिया गया है. इसके कारण कर्मियों ने वाटर एटीएम बंद कर दिया. जबकि विभाग द्वारा नियमित तौर पर एजेंसी द्वारा निर्धारित सेवा राशि का भुगतान किया जाता है. यह पूरी तरह से एजेंसी की लापरवाही है. इसके कारण नगर निगम बदनाम हो रहा है. उन्होंने कहा कि शीघ्र ही विभाग की ओर से इस समस्या का समाधान निकाल लिया जाएगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: