न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्यूजविंग स्टिंग : रिम्स के डॉ हेमंत नारायण के गार्ड मरीजों को कर रहे डायवर्ट

मरीजों पर रहती है गिद्ध सी नजर न्यूजविंग के स्टिंग में हुआ खुलासा.

526

Ranchi: रिम्स में मरीजों की सुरक्षा में लगाये गये सुरक्षाकर्मियों के खेल से हर कोई परिचित है. अस्पताल में सुरक्षाकर्मियों को लोगों की सुरक्षा एवं उनके मदद के लिए तैनात किया गया है. मगर ये सुरक्षाकर्मी अस्पताल में सेवा की आड़ में लोगों को बरगलाने के कार्य में जुटे है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

निजी अस्तपतालों में इलाज कराने को करते हैं प्रेरित

रिम्स परिसर में तैनात सुरक्षाकर्मी कभी स्वयं मरीजों को इंजेक्शन लगाने लगते हैं, तो कभी खुद ही डॉक्टर बनकर मरीजों को सलाह देने लगते हैं. अब तो हद ही हो गयी है. मरीजों की सुरक्षा में लगे ये सुरक्षाकर्मी मरीजों और उनके परिजनों को दूसरे अस्तपतालों में इलाज कराने के लिए प्रेरित करने का कार्य कर रहे हैं. खबरों के अनुसार दूसरे अस्पतालों में इन सुरक्षाकर्मियों का कमीशन बंधा हुआ है. जितने ज्यादा मरीज इनके द्वारा भेजे जायेंगे, कमाई उतनी ही ज्यादा होगी. इन सुरक्षाकर्मियों को निजी अस्पतालों द्वारा मरीज के उपचार में होने वाले खर्च के अनुसार परसेंटेज दिया जाता है. वहीं मरीज के परिजनों से भी अच्छी-खासी रकम मिल जाती है. इसका खुलासा न्यूज विंग द्वारा किये गये स्टिंग में हो चुका है. डॉ हेमंत नारायण के वार्ड में मरीजों का नाम रजिस्टर में अंकित करने के लिए जिस सुरक्षाकर्मी को रखा गया है उसने एक-एक कर अपने सारे कृत्य उगल डालें.

इसे भी पढ़ें- होटवार जेल से रिम्स पहुंचे लालू प्रसाद, बीपी-किडनी व शुगर की शिकायत

कैसे होता है खेल

रिम्स के सुपर स्पैशिलीटी हॉस्पिटल में स्थित कार्डियोलॉजी विभाग में यह खेल खूब पनप रहा है. ज्यादातर ये सुरक्षाकर्मी डॉ हेमंत नारायण के मरीजों पर गिद्ध की तरह नजर गड़ाये रखते है. सर्वप्रथम ये गार्ड मरीज को डॉ से अपना इलाज कराकर उनसे परामर्श लेने को कहते हैं. जिसके बाद मरीजों को बहलाकर दूसरे अस्पतालों में इलाज कराने के लिए प्रेरित किया जाता है. जिन मरीजों के इलाज में एक लाख से अधिक का खर्चा बताया जाता है, वैसे मरीज को ये सुरक्षाकर्मी अपने झांसे में ले लेते है. और दूसरे अस्पताल में मुफ्त में इलाज कराने की सलाह देते है. दरअसल इन मरीजों का इलाज निजी अस्पताल प्रबंधन द्वारा सरकारी योजना के तहत कराया जाता है. जिसमे मरीज के परीजनों को कोई चार्ज नहीं देना पडता है. इसी उम्मीद में मरीज के परिजन निजी अस्पतालों में इलाज के लिए तैयार हो जाते है. इलाज से खुश होकर मरीजों के परिजन सुरक्षाकर्मी कों 10 से 20 हजार तक दे देते है. फिर अलग से निजी अस्पतालों से कमीशन भी मिलता है.

इसे भी पढ़ें- राज्य में 1538 स्वास्थ्य केंद्र जिसमें 1015 निर्माणाधीन, जनता कैसे रहेगी तंदरुस्त

सुरक्षाकर्मी रमेश ने उगला राज

डॉ हेमंत नारायण के सुरक्षाकर्मी रमेश उरांव ने स्वयं इस बात को स्वीकार करते हुए बताया कि सभी निजी अस्पतालों के चिकित्सकों से उनके संबंध है. इन अस्पतालों के डॉक्टर स्वयं इनसे संपर्क करते है, एवं मरीज की जानकारी लेते रहते है. रमेश उरांव ने तो यहां तक बात स्वीकार की है कि वे मरीज को खुद अस्पताल चुनने की आजादी देते है. मरीज जहां भी इलाज कराना चाहता है रमेश वहां सेटिंग करा देता है.

इसे भी पढ़ेंः राज्य में बदल रही है स्वास्थ्य व्यवस्था : मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी

रिम्स निदेशक ने भी माना कि होती है गड़बड़ी

रिम्स के निदेशक आरके श्रीवास्तव ने भी यह स्वीकार करते हुए कहा कि रिम्स के कार्डियोलॉजी विभाग में सुरक्षाकर्मियों द्वारा इस प्रकार के कृत्य किये जाने की सूचना मिली है. लेकिन मेरे पास कोई पुख्ता सबूत नहीं होने के कारण मैं कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा हूं. मेरे पास सबूत आते ही तुरंत ऐसे कर्मियों पर उचित कारवाई की जायेगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like