न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्यूज विंग इंपैक्टः फर्जी आवास दिखा पैसा निकासी मामले में मुखिया समेत तीन दोषी

जांच टीम ने मुखिया, पंचायत सेवक और स्वंय सेवक को ठहराया दोषी

580

Manoj dutt dev

Latehar: लातेहार में न्यूज विंग की खबर का असर देखा गया. दरअसल जिले के बेतला पंचायत में प्रधानमंत्री आवास में हो रही अनियमितता का मामला न्यूज विंग ने उठाया था. वही सोमवार की शाम बरवाडीह प्रखंड के बेतला पंचायत अंतर्गत कुटमू निवासी सुरेश राम के पीएम आवास में बरती गई वित्तीय अनियमितता की जांच की गई. जांच टीम में जांच प्रभारी सह जनसेवक मनीष पांडेय एवं बरवाडीह के प्रखंड समन्वयक हेमंत कुमार शामिल थे.

इसे भी पढ़ेंः लातेहार : लाभुक का पीएम आवास अधूरा, दूसरे का पूर्ण आवास दिखाकर निकाल लिये पैसे

hosp3

मुखिया समेत तीन दोषी

जांच के क्रम में सुरेश राम की पत्नी सरिता देवी ने बताया कि हमलोगों को पीएम आवास का लाभ दिया गया है. जिसकी राशि खाते में आई थी. इसके बाद हमलोगों ने डोर लेबल तक पीएम आवास का निर्माण भी किया. लेकिन इसी दौरान हमारे खाते से सारे पैसे निकल गए, जिससे हमारा आवास अधूरा रह गया. पैसे की निकासी कैसे हुई, यह मुखिया ही जानेंगे. जांच प्रभारी मनीष पांडेय ने स्पष्ट रूप से कहा है कि लाभुक सुरेश राम के अधूरे आवास की जगह फर्जी पूर्ण आवास को दिखाकर खाते से कुल 1 लाख 23 हजार 500 रुपए निकाले गए हैं, जिसमें मुखिया संजय सिंह, पंचायत सेवक संतोष कुजूर व स्वयंसेवक रघुनंदन राम स्पष्ट तौर पर दोषी हैं.

इसे भी पढ़ेंः 34वें राष्ट्रीय खेल से पहले हुआ था बड़ा ‘खेल’

पूर्ण आवास का फोटो दिखा निकाले पैसे

इस संबंध में जब बीडीओ से दूरभाष पर संपर्क साधा गया तो उन्होंने फोन रिसीव करना मुनासिब नहीं समझा. गौरतलब हो कि सुरेश राम को वित्तीय वर्ष 2016-17 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास मिला था, जिसकी स्वीकृति संख्या- जेएच1205507 है. आवास की राशि मुखिया, पंचायत सेवक व बिचौलियों की सांठगांठ से गलत जियो टैगिंग कर चार अलग-अलग किश्तों में अंतिम किश्त की राशि निकासी करने के लिए दूसरे व्यक्ति के रूफ लेबल घर की फोटो को ऑनलाइन रिकॉर्ड में दिखा दिया गया है, जो पूरी तरह से फर्जी है.

इसे भी पढ़ें- मुख्यमंत्री के गृह जिला में अपराध बेलगाम ! करीब तीन सालों में 292 हत्याएं, 240 दुष्कर्म की घटनाएं

इससे पूर्व भी कई लाभुकों के आवास में वित्तीय अनियमितता में मुखिया संजय सिंह के अलावा बिचौलिया अब्दुल हलीम, पंचायत सेवक संतोष कुजूर, स्वयंसेवक शोएब अख्तर व कंप्यूटर ऑपरेटर सुदेश्वर राम की सहभागिता की पुष्टि हो चुकी है, लेकिन अब तक किसी पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है. ऐसे में सुरेश राम के आवास में हुई वित्तीय धांधली की जांच क्या रंग लाती है, यह देखना दिलचस्प होगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: