न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

NEWS WING IMPACT: कसमार बीडीओ पहुंची कार्यालय, खबर छपने से पहले आवासीय कार्यालय से ही करती थी काम

403

Bokaro/Kasmar: बोकारो जिला के कसमार प्रखंड की बीडीओ मोनिया लता शुक्रवार को करीब 10 बजे प्रखंड कार्यालय पहुंची. अपने सीओ ऑफिस से उन्होंने काम शुरू किया. इससे पहले बीडीओ मैडम अपने आवासीय कार्यालय से ही सारा काम निबटाती थी. न्यूज विंग ने इस संबंध में  “बोकारो : कसमार की बीडीओ मैडम को शायद सरकारी ऑफिस पसंद नहीं, आवास से ही करती हैं काम, जनसंवाद में शिकायत” शीर्षक से खबर छापी. खबर छपने के बाद इसका असर हुआ. बीडीओ मोनिया लता ने अपने कार्यालय से काम करना शुरू किया.

इसे भी पढ़ेंःबोकारो : कसमार की बीडीओ मैडम को शायद सरकारी ऑफिस पसंद नहीं, आवास से ही करती हैं काम, जनसंवाद में…

लोगों को होती थी परेशानी

कार्यालय के बाहर खड़ी बीडीओ की गाड़ी

कसमार प्रखंड मुख्यालय में लोगों को काफी परेशानी हो रही थी. एक-एक काम के लिए लोगों को महीनों तक प्रखंड मुख्यालय का चक्कर लगाना पड़ रहा था. इसके बाद भी लोगों का काम नहीं हो पा रहा था. इससे ग्रामीणों में काफी आक्रोश था. वजह यह है कि कसमार की बीडीओ मोनिया लता का जब से कसमार प्रखंड में पदस्थापन हुआ है, तब से एक-दो दिन ही वह कार्यालय आयी थी. सारा काम वह कार्यालय से दूर अपने आवासीय कार्यालय में करती थी. आम जनता का काम हो या प्रखंड के कर्मचारियों का, सभी लोगों को उनके आवासीय कार्यालय में जाकर काम करवाना पड़ता था.

इसे भी पढ़ेंःहाईकोर्ट निर्माण मामले में सरकार 14 दिसंबर तक दे जवाबः हाईकोर्ट

मुख्यमंत्री जनसंवाद में हुई थी शिकायत

मामले में बीडीओ की शिकायत कसमार के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री जनसंवाद में करते हुए बीडीओ पर कार्रवाई की मांग की है. कसमार के विकास कुमार सहित अन्य लोगों ने मुख्यमंत्री जनसंवाद केंद्र से शिकायत करते हुए कहा कि कसमार में जबसे बीडीओ मोनिया लता का पदस्थापन किया गया है, तब से कसमार की जनता काफी परेशान है. आयु, जाति सहित अन्य कामों के लिए कार्यालय के महीनों चक्कर लगाने पड़ते हैं.

आवासीय कार्यालय में कर्मचारियों की लगती थी भीड़

रोज सुबह 10 बजे के बाद बीडीओ के आवासीय कार्यालय में अंचल व ब्लॉक के कर्मचारियों की भीड़ काम को लेकर लगनी शुरू हो जाती थी. जबकि, कार्यालय में सन्नाटा पसरा रहता है. शाम पांच बजे तक आवास पर लोगों का आना-जाना लगा रहता था. एक-एक काम को लेकर कर्मचारियों को उनके आवासीय कार्यालय में अपनी हाजिरी लगानी पड़ती था. दबी जुबान से कई कर्मचारी इसका विरोध कर रहे थे. लोगों का कहना है कि जबसे मैडम कसमार आयी हैं, तबसे कर्मचारियों के साथ आम जनता का काम काफी धीमी गति से हो रहा है.

इसे भी पढ़ेंः रघुराम राजन ने मोदी को ही भेजी थी एनपीए घोटालेबाज़ों की सूची,…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: