BokaroJharkhandMain Slider

NEWS WING IMPACT : जायसवाल ब्रदर्स को खाली करना होगा अवैध रूप से बना बाइक शो-रूम, सीसीएल ने निकाला आदेश

विज्ञापन
  • मामला सीसीएल की जमीन पर जायसवाल ब्रदर्स के भव्य शो-रूम निर्माण का

Bermo : न्यूज विंग की खबर का असर एक बार फिर हुआ है. खबर प्रकाशित होने के बाद कथारा में सीसीएल की जमीन पर अवैध रूप से बने जायसवाल ब्रदर्स के बाइक शो-रूम को खाली करने का ऑर्डर जारी हुआ है. सीसीएल कथारा एरिया के जारंगडीह कोलियरी अंतर्गत गंगोत्री कॉलोनी एवं डीएवी जूनियर विंग स्कूल के बीचोंबीच बनाये गये शो-रूम को तोड़ने के लिए कथारा एरिया के भू-संपदा पदाधिकारी मिथिलेश प्रसाद ने इविक्शन ऑर्डर निकाला है. निकाले गये इविक्शन ऑर्डर में इस निर्माण को 15 दिनों के अंदर तोड़ने या हटा लेने को कहा गया है. आदेश की प्रति देकर शो-रूम के मालिक राजेश जायसवाल से रिसीव करवा लिया गया है. न्यूज विंग ने इस खबर को 18 फरवरी को प्रमुखता से प्रकाशित किया था, जिसके बाद सीसीएल कथारा रेस हुआ और इस तरह की कार्रवाई कंपनी की तरफ से की गयी.

क्या है आदेश में

भू-संपदा न्यायालय द्वारा निर्गत परियोजना पदाधिकारी बनाम राजेश जायसवाल के मामले में लिखा गया है कि राजेश जायसवाल द्वारा कब्जा किया गया खाता संख्या-04, 35, प्लॉट नंबर-588, 589 की परती 750 वर्गफीट जमीन पर जो अवैध रूप से कब्जा किया गया है, वह पूरी तरह से भारत सरकार के उपक्रम सीसीएल की जमीन है. कब्जाधारी जायसवाल ब्रदर्स की ओर से जमीन पर अपना अधिकार साबित नहीं किया जा सका. आखिरकार लोक परिसर अधिनियम 1971 की धारा 5 उपधारा एक के तहत दी गयी शक्तियों का प्रयोग करते हुए झारखंड उच्च न्यायालय के 8.4.2011 के आदेश के आलोक में राजेश जायसवाल को 15 दिनों के अंदर शो-रूम वाली जमीन खाली करने का आदेश दिया गया है. खाली नहीं करने की स्थिति में जमीन 15 दिनों के बाद बल प्रयोग से खाली करवा दी जायेगी.

जायसवाल ब्रदर्स ने मांगा था समय

भू-संपदा पदाधिकारी का कहना था कि 15 फरवरी को अंतिम समय सीमा बीतने के बाद राजेश जायसवाल ने और समय देने की मांग की थी. इस मांग को प्रबंधन ने मानने से इनकार कर दिया और वाद संख्या-18/1372 के तहत इविक्शन ऑर्डर निकाल दिया.

advt

कहां है कब्जा

सीसीएल जीएम ऑफिस से महज आधा किमी दूर सीसीएल की जमीन पर बिना कंपनी की इजाजत के जमीन अतिक्रमण कर एक आलीशान बाइक शो-रूम के लिए भव्य भवन का निर्माण हुआ. यह सारा खेल बेरमो कोयला क्षेत्र के सीसीएल कथारा एरिया में एरिया प्रबंधन, भू-संपदा विभाग और सुरक्षा विभाग के सामने दिन के उजाले में हुआ. कथारा फुसरो मेन रोड पर डीएवी जूनियर विंग स्कूल भवन एवं सीसीएल की आवासीय गंगोत्री कॉलोनी के बीच में सीसीएल की जमीन पर कब्जा कर भवन निर्माण किया गया. कब्जा कर उस जमीन पर बाइक कंपनी का भव्य शो-रूम बनाकर उद्घाटन कर लिया गया था और सभी मूकदर्शक बन तमाशा देखते रहे. खानापूर्ति के तौर पर कागजी कार्रवाई कर अपनी जवाबदेही से बचते रहे. कब्जाधारी और कोई नहीं है, बल्कि कथारा का जाना-माना बिजनेसमैन जायसवाल परिवार है.

पुलिस-प्रशासन को था पता, लेकिन होता रहा अवैध निर्माण

ऐसा नहीं है कि इस भव्य इमारत को एक ही रात में बनवा लिया गया है. ऐसा भी नहीं है कि शो-रूम बनने की जानकारी पुलिस और प्रशासन को नहीं थी. बावजूद इसके निर्माण तेजी से होता रहा. दूसरी तरफ कागज पर कार्रवाई होती रही. कथारा सीसीएल के एरिया सिक्युरिटी ऑफिसर कैप्टन एसआर बनर्जी को मामले की जानकारी हुई, तो उन्होंने निर्माण कार्य को रोकने के लिए सीसीएल जारंगडीह के पीओ को लिकर कार्रवाई करने को कहा. फिर भी जायसवाल परिवार ने निर्माण कार्य बंद नहीं किया. मामले को लेकर एरिया सिक्युरिटी ऑफिसर ने बोकारो थर्मल थाना में ऑनलाइन एफआईआर 31.10.2018 को दर्ज करायी. साथ ही बेरमो सीओ को भी इसकी सूचना दी. बेरमो सीओ को सूचना देने के बाद भी कब्जाधारी राजेश जायसवाल निर्माण कार्य कराते रहे. पांच नवंबर और 19 दिसंबर को भी बोकारो थर्मल थाना को लिखित सूचना दी गयी. लेकिन, कोई असर नहीं हुआ. निर्माण कार्य बदस्तूर जारी रहा. इतना ही नहीं सिक्युरिटी ऑफिसर ने एक नवंबर 2018 को सीसीएल कथारा एरिया के भू-संपदा पदाधिकारी मिथिलेश प्रसाद को मामले में इविक्शन ऑर्डर निर्गत कर निर्माण कार्य को रोकने एवं निर्मित स्ट्रक्चर को गिराने के लिए लिखा.

पैसे के लिए बेवजह परेशान किया जा रहा है : रिंकू जायसवाल

कथारा में सीसीएल की जमीन पर कब्जा कर शो-रूम बनाने के मसले पर शो-रूम के रिंकू जायसवाल का कहना है, “मेरे पास जमीन के सारे कागजात हैं. जमीन रजिस्ट्री की हुई है. सीसीएल के भू-संपदा पदाधिकारी ने जब भी बुलाया, हम हाजिर हुए हैं और कागजात भी सौंपे हैं. सीसीएल के अधिकारी बेवजह पैसे के लिए परेशान कर रहे हैं.”

इसे भी पढ़ें- प्रबंधन और प्रशासन ने सीसीएल की जमीन पर जायसवाल ब्रदर्स को भव्य शो-रूम बनाने दिया, अब कह रहे ढाहेंगे

adv

इसे भी पढ़ें- तो बताएं… झारखंड के नेताओं में अमर्यादित भाषा के लिए किसे मिल सकता है फर्स्ट प्राइज

इसे भी पढ़ें- सुखाड़ से निपटने के लिए झारखंड ने मांगी थी 818 करोड़ की सहायता राशि, केंद्र ने 272 करोड़ की दी…

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button